मेरठ: राजनीति में परिवारवाद के पक्ष में नहीं थे चौधरी साहब: बालियान

मेरठ: राजनीति में परिवारवाद के पक्ष में नहीं थे चौधरी साहब: बालियान

मेरठ। पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह की जयंती के मौके पर मेरठ विश्वविद्यालय में दो दिवसीय कार्यक्रम का आयोजन किया गया। शनिवार को बृह्स्पति भवन में मुख्य अतिथि के रूप में पूर्व केन्द्रीय मंत्री व सांसद डा. संजीव बालियान उपस्थित रहे। उन्होंने कहा कि चौधरी चरण सिंह जमीनी राजनीति के साथ-साथ बौद्धिक क्षमता के आधार पर राजनीति करते थे। उन्होंने कहा कि वह एकमात्र नेता थे जो अपनी पार्टी के विरोध में भी बोलते थे। संजीव बालियान ने कहा कि चौधरी साहब का कहना था कि अगर गांव से लोगों का पलायन रोकना है तो गांव में उद्योग शुरू करने होंगे। जिससे गांव के लोगों को रोजगार मिलेगा। उन्होंने कभी भी परिवारवाद की राजनीति नहीं की। उनके जीवित रहते उन्होंने अपने पुत्र को भी राजनीति में आने नहीं दिया। उन्होंने हमेशा किशान व गरीबों के लिए सोचा। वह अभी भी किसानों में मसीहा के रूप में माने जाते है। विधायक सोमेन्द्र तोमर ने कहा कि चौधरी जी ने हमेशा किसानों की आवाज उठाई है। विश्व विद्यालय के कुलपति एनके तनेजा ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री की करनी व कथनी में कोई अंतर नहीं था। उन्होंने ग्रामीण कृषि आधारित आर्थिक व सामाजिक नितियों में चौधरी चरण सिंह के समान बनने की बात कही। उन्होंने यह भी बताया कि चौधरी चरण सिंह का कहना था कि देश की खुशहाली का रास्ता खेतों व खालियानों से होकर गुजरता है। इस मौके पर प्रो. पीके मिश्र, डा. प्रशांत कुमार, डा. एस गौरव, सचिन कुमार, पवित्र देव, नरेन्द्र मोरल आदि ने अपने विचार प्रस्तुत किए।

Share it
Top