मेरठ: जेल चुंगी पर लाठीचार्ज करने पर भड़का वकीलों का गुस्सा

मेरठ: जेल चुंगी पर लाठीचार्ज करने पर भड़का वकीलों का गुस्सा

मेरठ। वकीलों ने बढ़ी हुई कोर्ट फीस और विश्वविद्यालय में पश्चिम बंगाल के राज्यपाल केसरीनाथ त्रिपाठी के कार्यक्रम के विरोध का एलान किया था। देर रात तक डीएम और एसएसपी वकीलों को समझाने में जुटे रहे। इस दौरान वकीलों के एक प्रतिनिधिमंडल को केसरीनाथ त्रिपाठी से मिलवाने की पेशकश भी अधिकारियों द्वारा की गई, लेकिन वकीलों ने केसरीनाथ त्रिपाठी को पश्चिम उत्तर प्रदेश में हाईकोर्ट बेंच स्थापना में सबसे बड़ा रोड़ा बताते हुए उनके कार्यक्रम के विरोध का एलान कर दिया। सुबह से ही विश्वविद्यालय के आसपास का इलाका पुलिस ने छावनी में तब्दील कर दिया था। खुद एसएसपी मंजिल सैनी दहल और एसपी सिटी मानसिंह चौहान व एडीएम सिटी कई थानों की फोर्स और आरएएफ के साथ विवि में मुस्तैद रहे। इसी दौरान वरिष्ठ अधिवक्ता एमके शर्मा और विनोद राणा साथी अधिवक्ताओं के साथ विश्वविद्यालय के लिए जा रहे थे। आरोप है कि जेलचुंगी चौराहे पर एसएसपी मंजिल सैनी दहल के साथ फोर्स ने वकीलों को रोकने का प्रयास किया। इसी बीच पुलिस ने वकीलों पर लाठियां बरसा दीं और वकीलों को सड़क पर दौड़ा-दौड़ा कर पीटा गया। विनोद राणा सहित कई वकीलों को हिरासत में ले लिया गया। इस बात की जानकारी मिलते ही वकील भड़क उठे और विवि के गेट पर पुलिस-प्रशासन के विरोध में नारेबाजी शुरू कर दी।

Share it
Top