मेरठ: सम्पत्ति में धोखाधड़ी करने वालें भेजे जाएंगे जेल

मेरठ: सम्पत्ति में धोखाधड़ी करने वालें भेजे जाएंगे जेल

मेरठ। आयुक्त सभागार में मेरठ विकास प्राधिकरण के कार्यो की समीक्षा बैठक में एमडीए अधिकारियों के साथ बैठक करते हुए आयुक्त डा. प्रभात कुमार ने अवैध निर्माण पर पैनी नजर रखकर कार्रवाई करनें, अवर अभियंताओं को अपने अपने इलाकों में भ्रमण कर अवैध निर्माणों को चिन्हित करने, गरीब आदमी का शोषण कर उनकी सम्पत्ति में जालसाजी करने वालों को जेल भेजने तथा नक्शें के बिना निर्माण कार्य करने पर सम्बंधित क्षेत्र के अधिकारी के विरूद्ध कड़ी कार्रवाई करने के आदेश दिए।
आयुक्त ने कहा कि एमडीए अधिकारियों न तो अवैध निर्माण तोड़ते है और न ही शमन की कार्यवाही ठीक प्रकार से करते है, यह सब अब नहीं चलेगा। उन्होंने कहा कि जब अवैध निर्माण मुझे दिखते है तो आप लोगो को नहीं क्यों नहीं? आयुक्त ने सभी अधिकारियों को एक माह का समय देते हुए कहा कि अगर अगली समीक्षा बैठक एमडीए की कार्यप्रणाली में बदलाव नहीं आया तो सम्बंधित अधिकारी के विरूद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने अवैध निर्माणों को नोटिस देने व पार्किंग के स्थान पर बनी दुकानों को सील करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि एमडीए द्वारा प्रत्येक माह कितने नक्शे पास किये जाते है, कितने निर्माण वास्तविकता में चल रहे है इसका निरीक्षण कर पूरी तैयारी के साथ कार्यवाही करें। उन्होंने प्राप्त आपत्तियों की जांच कर उनके निस्तारण करने के लिए भी निर्देशित किया। एमडीए के सचिव राजकुमार ने बताया कि अप्रैल 2017 से सितम्बर 2017 तक एमडीए द्वारा 421 आवासीय, 46 गैर आवासीय व 21 औद्योगिक मानचित्र स्वीकृत किये गये। इस अवसर पर सीटीपी जे एन रेडडी, मुख्य अभियंता दुर्गेश श्रीवास्तव, वित्त निंयत्रक वसी मौहम्मद, टाउन प्लानर के के गौतम, जोन के अधिशासी अभियंता पीपी सिंह, डीसी तोमर, राजीव सिंह, एई नीरज कुमार, धीरज सिह, तहसीलदार मनोज कुमार सिंह सहित अवर अभियंता व अन्य अधिकारीगण उपस्थित रहे।

Share it
Top