मेरठ: गौहत्या साबित होने पर होगी एनएसए की कार्यवाही: जिलाधिकारी समीर वर्मा

मेरठ: गौहत्या साबित होने पर होगी एनएसए की कार्यवाही: जिलाधिकारी समीर वर्मा

मेरठ। जनपद की कानून व्यवस्था की समीक्षा करते हुए जिलाधिकारी समीर वर्मा ने पुलिस, प्रशासनिक अधिकारियों को निर्देश दिये गये हैं कि जनपद में शान्ति व्यवस्था कायम रखने के लिए अब यह सुनिश्चित करें कि जनपद में कोई भी अपराधी सर न उठा सके और आम जनता शान्ति के साथ जीवन व्यतीत करे। सभी अधिकारियों को बताया गया हैं कि शासन के सख्त निर्देश हैं कि अब से प्रदेश में गौहत्या व बिजली सेवा को प्रभावित करने वालों पर बिना किसी संकोच के नेशनल सुरक्षा अधिनियम के तहत कार्रवाई की जाएगी।
अधिकारियों को कहा गया है कि अपने अधीन आने वाले क्षेत्रों में समय-समय पर दौरा करते रहें और अपने सूचना तंत्रों को सक्रिय रखें ताकि हर छोटी से छोटी घटना की जानकारी समय से होने के साथ ही उस पर समय से प्रभावी कार्यवाही अमल में लायी जा सके। क्षेत्र की हर छोटी बड़ी गतिविधि से अवगत होकर किसी भी प्रकार की अवांछनीय तत्वों पर पैनी नजर रखें। अगर किसी बड़े अपराध में कोई शस्त्र लाईसेंस धारक संल्पित पाया गया तो उसके शस्त्र लाईसेंस को तुरन्त ही समाप्त कर दिया जाएगा।
गौहत्या को जघन्य अपराधों की श्रेणी में शामिल कर लिया गया है। इसलिए अधिकारी जनपद में गौहत्या करने वालों को किसी भी दशा में न बख्शे, बल्कि इसके आररोपियों के विरूद्ध एनएसए जैसी धाराओं में प्रभावी कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश में बिना किसी रूकावट के विद्युत आपूर्ति को सुनिश्चित कराना शासन की प्राथमिकता है, इसलिए अधिकारी यह भी देखें के विद्युत आवश्यक सेवा को यदि कोई व्यक्ति प्रभावित करता है तो उसके विरूद्ध दण्डात्मक कार्यवाही करते हुए एनएसए में निरूद्ध करें। जघन्य अपराधों एवं अवांछनीय तत्वों पर एनएसए की कार्यवाही करने के लिए अच्छी तैयारी करने के बाद ही एनएसए को प्रस्तावित करें ताकि अपराधी को राहत न मिल सके।
जिलाधिकारी ने कहा कि भूमाफियाओं के विरूद्ध 14 ए की प्रभावी करते हुए उनके ऊपर गैंगस्टर लगाकर उनकी सम्पत्तियों की कुर्की करायें। उन्होंने अभियोजन अधिकारियों से कहा कि वह कुख्यात अपराधियों के केसों में गुणवत्तायुक्त पैरवी करें ताकि वह जेल से बाहर न आ सके।

Share it
Top