मेरठ: शिक्षा के साथ बच्चों का सामाजिक ज्ञान भी जरूरी: डीएम

मेरठ: शिक्षा के साथ बच्चों का सामाजिक ज्ञान भी जरूरी: डीएम

मेरठ। जिलाधिकारी समीर वर्मा ने हापुड़ रोड पर स्थित राजकीय कन्या इण्टर कालेज मेरठ का निरीक्षण किया। विद्यालय में शिक्षा की गुणवत्ता सही न पाये जाने पर उन्होंने नाराजगी व्यक्त की तथा अध्यापकों को निर्देश देते हुए कहा कि वह छात्रों को रट्टू तोता न बनायें, बल्कि उन्हें किसी भी चीज का सम्पूर्ण ज्ञान दें ताकि वह उसे ज्ञान को जीवनभर याद रखें। उन्होंने कहा कि वह छात्राओं को ऐसी शिक्षा दे कि जिससे वह स्वयं को विकसित कर स्कूल व जनपद का नाम रोशन कर सके।
निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी ने विभिन्न वर्गो की कक्षाओं में जाकर छात्राओं से उनके विषय सम्बधी अंग्रेजी, समाज शास्त्र, अर्थशास्त्र, आदि प्रश्नों को पूछा, जिसमें छात्राओं द्वारा हिचकिचाहट के साथ जवाब न देने पर उन्होंने अध्यापकों को छात्रों की हिचक को दूर करने के लिए उन्हें पर्सनल्टी डवलेप कराने के निर्देश दिये। उन्होंने प्रधानाचार्य से कहा कि वह छात्राओं में शिक्षा के स्तर को और अधिक बढ़ाने तथा विभिन्न क्षेत्रों का ज्ञान प्रदान कराने के लिए रिटायर्ड शिक्षकों एवं शिक्षा विशेषज्ञों की विशेष कक्षाएं आयोजित करायें।
निरीक्षण के दौरान के जिलाधिकारी के समक्ष प्रधानाचार्या ने विद्यालय में फर्नीचर की कमी, पीने के पानी के लिए दो अतिरिक्त आरओ लगाने, साइंस लैब में संयत्रों की कमी, 1500 छात्राओं की संख्या के अनुसार स्टाफ की कमी आदि की मांग की, जिस पर जिलाधिकारी ने विधायक नीधि से दो आरओ लगाने तथा बाकी सभी कमियों को जिला विद्यालय निरीक्षक को जल्द से जल्द दूर करने के निर्देश दिए। उन्होंने पुलिस अधिकारी को निर्देशित किया कि वह विद्यालय खुलने एवं छुट्टी होने के समय विशेष रूप से सुरक्षा पुलिस की पेट्रोलिंग अवश्य करायें ताकि कन्याऐं बिना किसी भय के स्कूल आ जा सकें। इस अवसर पर विधायक मेरठ शहर रफीक अंसारी सहित जिला विद्यालय निरीक्षक सरदार सिंह, लेखाधिकारी शिक्षा विभाग, प्रधानाचार्या पूनम गोयल व अध्यापिकायें उपस्थित रही।

Share it
Top