मेरठ: धर्मशाला की दुकानों को लेकर हुए विवाद में सात को भेजा जेल

मेरठ: धर्मशाला की दुकानों को लेकर हुए विवाद में सात को भेजा जेल

मेरठ। अम्बेडकर धर्मशाला की दुकानों पर अवैध कब्जे को लेकर भिड़े दो पक्षों में किरायेदार की और से लिखाई गई रिपोर्ट के आधार पर पुलिस ने 11 आरोपियों में से सात को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। अन्य आरोपियों की तलाश में संभावित स्थानों पर दबिश दी गई है। वहीं एक तरफा कार्यवाही से लोगों में रोष व्याप्त है।
सूत्रों के अनुसार नगर के मोहल्ला बूढ़ा बाबू स्थित अम्बेडकर धर्मशाला में धर्मशाला की तीन दुकाने कुछ माह पूर्व गोविन्द पुत्र रामफल, ललित पुत्र जगदीश तथा सुन्दर पुत्र जयचंद को किराए पर दी गई थी। दुकानदारों से दुकानें खाली कराने के मामले में विवाद हो गया था। जिसमें दोनों और से जमकर मारपीट हुई थी। विवाद और पथराव की सूचना पर पहुंची पुलिस ने भीड़ को बल प्रयोग कर दौड़ाया। इसी के साथ पुलिस ने कई दर्जन महिलाओं व पुरुषों को हिरासत में लिया था। किरायेदार ललित पुत्र जगदीश की तहरीर पर पुलिस ने पांच महिलाओं सहित 11 लोगों के खिलाफ मारपीट तोड़-फोड़ व लूटपाट करने की धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज करने के साथ 14 महिलाओं सहित 34 लोगों का शांति भंग करने को लेकर चालान कर दिया था। जिसके बाद लोगों ने एक पक्षीय कार्यवाही का आरोप लगाते हुए जमकर हंगामा भी किया था। पुलिस ने मामचंद पुत्र नत्थे, गजराज पुत्र राजमल, मोहित पुत्र विजय, सतेन्द्र पुत्र सरदार, सोनू पुत्र विजयपाल, श्रद्धानन्द पुत्र रधुवीर, बेदी पुत्र लेखा को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। जेल भेजने के बाद लोगों ने पुलिस द्वारा की गई एक तरफा कार्यवाही को लेकर रोष व्यक्त किया।

Share it
Top