मेरठ: बारिश से गिरा तापमान, मौसम हुआ ठंडा, जलभराव से उठानी पड़ी परेशानी, एक मकान गोलाकुंआ तथा दूसरा सरधना में गिरा

मेरठ: बारिश से गिरा तापमान, मौसम हुआ ठंडा, जलभराव से उठानी पड़ी परेशानी, एक मकान गोलाकुंआ तथा दूसरा सरधना में गिरा

मेरठ। जिले में पिछले दो दिनों से रूक-रूक कर हो रही बारिश के चलते तापमान में काफी गिरावट आई है। मौसम ठंडा हो गया है और लोगों को गर्मी से बड़ी राहत मिली। मौसम खुशगवार हो गया और इस खुशगवार मौसम का लोगों ने इधर-उधर घूम-फिरकर जमकर आनन्द उठाया। इसके अलावा मार्गों पर जगह-जगह कीचड़ व जलभराव की समस्या उत्पन्न हो गई, जिस कारण लोगों को आने-जाने में भारी कठिनाई का सामना करना पड़ा। शुक्रवार सुबह से शुरू हुई झमाझम बारिश से शहर एक बार फिर तैरने लगा। बारिश शनिवार को भी कहीं कहीं जारी रही, नगर निगम के जलभराव न होने देने के तमाम दावे भी बरसात के साथ धुल गए। शहरभर में हुए जलभराव से लोग बेहाल हो उठे। शहर के कई निचले इलाकों में घरों में पानी घुस गया। रोहटा रोड, मलियाना, फतेहउल्लापुर, प्रह्लादनगर, ब्रह्मपुरी, खैरनगर आदि क्षेत्र में तो हालात बदतर हो गए। यहां सड़कें नालों में तब्दील हो गयीं। शुक्रवार सुबह से मौसम का बदला मिजाज शनिवार को भी जारी रहा।मार्ग में कई जगह गड्ढे होने के कारण दुपिहया वाहन चालक गिरकर घायल हो गए। दूसरी ओर ब्रह्मपुरी क्षेत्र अंतर्गत लक्ष्मणपुरी, हरिनगर, इंदिरापुरम, मास्टर कालोनी, गणेशपुरी के अलावा बुढ़ानागेट, खैरनगर, छतरी वाली पीर आदि तमाम इलाकों में भीषण जलभराव हो गया। यहां कई घरों में पानी घुस गया। जबकि मलियाना स्थित जसवंत शुगर मिल के आस-पास घरों में पानी घुसने पर लोग बेहाल हो गए। नगर-निगम के खिलाफ लोगों ने जमकर नारेबाजी की। वहीं रोहटा रोड पर तो नाले जैसे हालात पैदा हो गए। यहां नाले-नालियों का पानी सड़कों पर जमा हो गया। कई वाहन यहां जलभराव के कारण बीच में ही बंद हो गए। शनिवार को दूसरे दिन भी जिले में कई स्थानों पर बारिश हुई। वह घूमने-फिरने के लिए सड़कों पर निकल पड़े। उन्होंने बाजार में गरम व्यंजनों का जमकर लुत्फ उठाया। सुबह से लेकर शाम तक चाट-पकौड़ी व खोमचे वालों की दुकानों पर लोगों की भीड़ लगी रही। नगर के पक्का घाट पर काफी लोग घूमने-फिरने आये और उन्होंने इस सुहावनें मौसम का मजा लिया। इसके अलावा बारिश के बाद सड़कों पर जगह-जगह कीचड़ व जलभराव की समस्या उत्पन्न हो गई और लोगों को अपनी मंजिल तक पहुंचने में कड़ी मशक्कत करनी पड़ी।

Share it
Top