मेरठ में पंचायत ने प्रेमी के परिजनों को भी दिया गांव छोडने का फरमान

मेरठ में पंचायत ने प्रेमी के परिजनों को भी दिया गांव छोडने का फरमान

मेरठ। फरार प्रेमी युगल के पकड़े जाने पर युवती प्रेमी के साथ ही रहने की जिद पर अड़ गई। प्रेमी युगल के बालिग़ होने के चलते पुलिस ने युवती को प्रेमी के परिजनों को सौंप दिया। युवती के जिद के आगे परिजनों को हार माननी पड़ी। जिसके चलते युवती के परिवार ने समाज में हुई किरकिरी के चलते गांव छोड़ दिया। पंचायत ने भी प्रेमी-युगल व प्रेमी के परिजनों को गांव छोडऩे का फरमान सुना दिया है। जिससे इस तरह की घटना दौबारा न हो सके। जानकारी के मुताबिक़ लगभग पन्द्रह दिन पूर्व सरधना क्षेत्र के गांव अलीपुर निवासी अनिल ने थाने पहुंचकर बताया था की उसकी पुत्री काजल का गांव के ही शेटठी व देव कुमार पुत्रगण बिजेन्द्र ने अपहरण कर लिया है। जिसके बाद पुलिस हरकत में आई और मेरठ से काजल को बरामद करने के साथ देव कुमार को पकड़ लिया था। काजल ने अपने अपहरण की बात को पूरी तरह नकारते हुए खुद अपनी मर्जी से शेटठी के साथ जाने की बात कही थी। काजल ने बताया था की वह शे-ी से प्यार करती है और उसी से विवाह करेगी। इसके बाद पुलिस ने देव कुमार का शांति भंग करने की धारा में चालान कर दिया था। काजल को महिला थाने भेजकर बयान दर्ज कराया था। युवती ने परिजनों से जान का खतरा जताया तो पुलिस ने काजल को शेटठी के परिजनों को सौंप दिया था। समाज में अपनी किरकिरी हो जाने पर काजल के परिजन गांव छोड़कर चले गए। जिसके बाद प्रेमी युगल का गांव में रहना ग्रामीणों को अखर गया। जिसके चलते गांव अलीपुर में अम्बेडकर भवन में पंचायत का आयोजन किया गया। घंटो चली पंचायत ने प्रेमी युगल के गांव में न रहने का फरमान जारी कर दिया है। पंचायत का मानना है की जब लड़की के परिजन गांव छोड़कर चले गए तो लड़के के परिजनों को भी गांव छोडऩा पड़ेगा। ताकि भविष्य में गांव का कोई भी लड़का या लड़की ऐसा कदम न उठा सके। पंचायत में प्रधान पति बब्बू, पूर्व प्रधान पति भूपेन्द्र, रामधन, वीरेन्द्र, डा. रवि गौतम, महेश, दयाराम मुख्य रूप से शामिल रहे।

Share it
Top