मेरठ: सरधना में तेंदुए की सड़क दुर्घटना में हुई मौत

मेरठ: सरधना में तेंदुए की सड़क दुर्घटना में हुई मौत

मेरठ। मेरठ-करनाल मार्ग पर अज्ञात वाहन की टक्कर से तेंदुए की दर्दनाक मौत हो गई। ग्रामीणों ने सड़क पर पड़े तेंदुए को देख दी अधिकारीयों को को जानकारी। सूचना पर पहुंची वन विभाग की टीम ने मृतक तेंदुए को अपने कब्जे में लिया। जांच की गई तो उसकी मौत हो चुकी थी। आशंका जताई जा रही है कि किसी अज्ञात वाहन की टक्कर लगने से तेन्दुए की मौत हो चुकी थी। डीएफओ अदिति शर्मा ने बताया की तेंदुए की आयु लगभग 3 से साढ़े वर्ष रही है। बतादें की सरधना क्षेत्र के गांव मुल्हेड़ा व बपारसी के निकट वन है। पिछले कुछ दिनों से तेंदुआ आसपास के जंगल में देखा जा रहा था। जिसकी दहशत के चलते किसान अपने खेतों में भी जाने से डरने लगे थे। महिलाओं व बच्चों ने जंगल में जाना भी बंद कर रखा था। तेंदुआ दिखने की सूचना कई बार वन विभाग की टीम को दी गई लेकिन किसी ने इस और ध्यान नहीं दिया। तेंदुए के सड़क दुर्घटना में मारे जाने से किसानो की बात सही साबित हो गई है। अनुमान है की अभी इलाके में और भी तेंदुए है। डीएफओ अदिति शर्मा का कहना है की इलाके में तेंदुआ होने की आशंका से इंकार नहीं किया जा सकता, क्यों की यहाँ दूर तक घना जंगल है। उन्होंने बताया की यदि एक दो तेंदुए इलाके के जंगल में है तो उनसे किसानों को फायदा है। तेंदुआ उन जानकारों का शिकार करता है जो किसानो की फसलों को नुकसान पहुंचाते है, जैसे बन्दर, लोमड़ी, गीदड़, बिल्ली, पाड़ा आदि। उन्होंने बताया की तेंदुए उस समय वन से बाहर निकलते है, जब उन्हें वहां शिकार नहीं मिलता तो वह भूख मिटाने के लिए बाहर का रास्ता तलाश करते है। उन्होंने आशंका जताई की तेंदुआ रौशनी में सड़क पार करने के प्रयास में दुर्घटना का शिकार हुआ है। बताया गया की सड़क पार करते समय सड़क का डिवाइडर तेंदुए की मौत का कारण बना है। सड़क पार कर रहा तेंदुआ डिवाइडर से टकरा गया। उसी समय वह किसी अज्ञात वाहन की चपेट में आ गया, जिससे उसके सर में चोट आई और मौत का शिकार हो गया।

Share it
Top