मेरठ: बजरंग दल व विहिप की भारत सरकार से मांग....भारत में नहीं बसने देंगे म्यांमार के मुसलमान

मेरठ: बजरंग दल व विहिप की भारत सरकार से मांग....भारत में नहीं बसने देंगे म्यांमार के मुसलमान

मेरठ। भारत में अवैध तरीके से घुसपैठ कर वर्मा से आ रहे रोहिंग्या मुसलमानों को किसी भी सूरत में भारत में नहीं बसने देंगे। अगर उन्हें भारत में बसाया गया तो बजरंग दल व विश्व हिन्दू परिषद के सदस्य इसका पुरजोर विरोध करेगा। उक्त बातें सूरजकुंड रोड स्थित केशव भवन में प्रेस कान्फ्रेंस आयोजित कर विहिप के प्रांत प्रवक्ता शीलेन्द्र चौहान ने कही।
उन्होंने बताया कि म्यांमार से आए रोहिंग्या मुसलमान भारत आ रहे है। भारत का एक वर्ग इनका समर्थन कर रहा है। उन्होंने कहा कि म्यांमार में इनकी संख्या दस लाख से अधिक है। वहां का रखाईन राज्य मुसलमानों की हिंसा से तृस्त है। म्यांमार के शांतिप्रिय बौद्व नागरिकों को निरंतर हिंसा व अत्याचार झेलना पड़ रहा है। बौद्ध महिलाओं से रेप की घटना आम बात हो गई थी। एक बौद्ध संत विराधू ने उनका विरोध किया और बौद्धों को हथियार उठाने के लिए प्रेरित किया। जिसके बाद उन्होंने रोहिंग्याओं को मार भगाया। तब से वह ईधर-उधर भटक रहे है। वह बंग्लादेश से होते हुए भारत में भी आ रहे है। बजरंग दल के प्रांत संयोजक बलराज डूंगर ने कहा कि भारत पहले ही पांच करोड़ बंग्लादेशियों से तृस्त है। जो भारत की शांति में पलीता लगाने में कोई भी अवसर नहीं छोड़ते है। इसके अलावा भारत पहले ही जनसंख्या विस्फोट की समस्या से जूझ रहा है। भारत में कुछ लोग वोट की राजनीति के चलते इनका समर्थन कर रहे है। उन्होंने यह भी कहा कि विश्व में 56 मुस्लिम देश है, वे देश इन रोहिंग्या मुसलमानों को क्यों स्वीकारते है। उन्होंने कहा कि भारत में उन्हें कतई भी बसने नहीं दिया जाएगा। उन्होंने भारत सरकार से बंग्लादेशी व रोहिंग्या मुसलमानों को तुरंत बाहर निकालने की मांग की। साथ ही चेतावनी दी कि अगर ऐसा नहीं हुआ तो बजरंग दल व विहिप के लाखों सदस्य सड़कों पर उतरेंगा। इस मौके पर गोपाल शर्मा, गुलाब सिंह, प्रेमपाल सिंह, अमित बालियान, शिव कुमार शर्मा भी मौजूद रहे।

Share it
Top