मेरठ: चन्दौरा की जैनब ने गांव व जनपद का नाम किया रौशन

मेरठ: चन्दौरा की जैनब ने गांव व जनपद का नाम किया रौशन

मेरठ। जानीखुर्द के गांव चन्दौरा निवासी जैनब खान को बालिका शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने देवी अवार्ड से सम्मानित किया। बता दें कि जैनब ने अपनी दस साल की उम्र से ही शिक्षा को लेकर लोगों को जागरूक करने का बीड़ा उठा लिया था। इस एक और अवार्ड के जैनब को मिलने से क्षेत्र में खुशी की लहर दौड़ गई। जैनब इन दिनों भारत सरकार के खेल मंत्रालय के अधीन कार्यरत है।
दिल में लगन और पक्के इरादे आपको मंजिल तक पहुंचा ही देते हैं। जैनब की कहानी भी कुछ यही कहती है। जानीखुर्द के चन्दौरा गांव में लड़कियों का शिक्षा से कुछ खास वास्ता नहीं था। ज्यादातर लडकियां पांचवी पास करने के बाद शादी के बधंन में बंध जाती थी। जैनब ने अपनी इस साल की उम्र से ही शिक्षा की अलख जगानी शुरू कर दी थी। वह खुद गांव की पहली लड़की बनी जिसके हाईस्कूल पास किया। अब तक वह गांव व आसपास में 10 हजार से अधिक लड़कियों को शिक्षा से जोड़ चुकी है।
गांव चन्दौरा की जैनब बालिक शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए बचपन बचाओ आन्दोलन से जुड़कर वर्षों से कार्य कर रही है। जैनब पाकिस्तान की मलाला की संस्था से भी जुड़कर अनेको कार्यक्रम का बीडा उठाकर बालिका शिक्षा को बढ़ावा देने में जुटी हुई है। जिसके चलते बीती शाम को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जैनब को देवी अवार्ड से सम्मानित किया। इस सम्मान को पाकर गदगद हुई जैनब ने बताया कि उसका लक्ष्य लड़कियों को समाज में अलग पहचान दिलाना है। जैनब के इस सम्मान से जहां गांव का नाम रौशन हुआ वहीं जनपद का नाम भी रौशन हुआ। गौरतलब है कि जैनब को पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी रानी लक्ष्मी बाई अवार्ड से सम्मानित किया था। जबकि जैनब की मांग पर ही गांव चन्दौरा में पांच करोड़ की लागत से राजकीय कन्या विद्यालय भी बनवाया था। बताया कि वह इन दिनों भारत सरकार के खेल मंत्रालय के अधीन नेहरू युवा केन्द्र में राष्ट्रीय युवा स्वयं सेवक के रूप में स्वच्छ भारत मिशन, बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ, वृक्षारोपन, जल सरक्षण आदि के लिए कार्य कर रही है।

Share it
Top