मेरठ: आयुक्त ने मण्डलीय कानून एवं शान्ति व्यवस्था की समीक्षा

मेरठ: आयुक्त ने मण्डलीय कानून एवं शान्ति व्यवस्था की समीक्षा

मेरठ। आयुक्त सभागार में मण्डलीय कानून एवं शान्ति व्यवस्था की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए अधिकारियो से कानून व शान्ति व्यवस्था के प्रति सजग रहकर कार्य करने तथा छोटी से छोटी घटनाओं को भी ग भीरता से देखने, गैगस्टर एक्ट में हुई कार्यवाही में निरूद्ध व्यक्ति को सम्पत्ति को अटैच करने, भ्रष्टाचारियों पर कड़ी कार्यवाही करने, गुण्डा एक्ट में प्रभावी व ठोस कार्यवाही करने, भूमाफियाओं पर कड़ी कार्यवाही करने के लिए निर्देशित किया। उन्होंने कहा कि आबादी न होने पर भूमि को आबादी एवं अकृषक घोषित करने वाले एसडीएम के विरूद्ध सख्त कार्यवाही की जाएगी।
आयुक्त डा. प्रभात कुमार ने कहा कि कानून एवं शान्ति व्यवस्था प्रदेश सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता में है इसलिए कानून एव शान्ति व्यवस्था से किसी भी प्रकार का समझौता स्वीकार्य नहीं होगा। अधिकारी पूर्ण सजगता, तत्परता व निर्भिकता के साथ कार्य करें तथा दोषिया के विरूद्ध सख्त कार्यवाही करें, साथ ही अपनी कार्यप्रणाली में भी सुधार कर शासन की अपेक्षाओं पर खरे उतरें।
प्रभात कुमार ने कहा कि भूमाफियाओं से ग्राम सभा की कितनी भूमि खाली करायी गयी है तथा वर्तमान में उसकी क्या स्थिति है इसकी आ या दें तथा भूमाफियाओं चिन्हित कर उनके विरूद्ध सख्त कार्यवाही करें।
डा. प्रभात कुमार ने मण्डल समस्त जिलाधिकारियों को निर्देशित किया कि वह अपने जनपद के समस्त परगनाधिकारियों को यह निर्देश प्रसारित करा दें की जब तक किसी भूमि पर स्पष्ट रूप से आबादी न बनी हो तो उक्त भूमि को आबादी एवं अकृषक घोषित करने की कार्यवाही न की जाए तथा इस संबंध में जमीदारी विनाश अधिनियम की धारा 143 (उ०प्र०राजस्व संहिता की धारा 80 व 81) के अन्तर्गत की गयी कार्यवाही की सूची उपलब्ध करायें तथा दोषी पाये जाने पर स बंधित एसडीएम के विरूद्ध कार्यवाही की जाएगी।
अपर आयुक्त आरएन धामा ने बताया कि एक जनवरी 2017 से 31 जुलाई 2017 तक व इसी अवधि में गत वर्ष 2016 में हुए अपराधों का तुलनात्मक अवलोकन करने पर ज्ञात होता है कि बुलन्दशहर में डकैती, लूट, हत्या,की घटनाओं में बढोत्तरी हुई है तथा हापुड़ में वाहन चोरी,व चोरी की घटनाओं में बढोत्तरी हुई है व गाजियाबाद में अपहरण व मेरठ में बलात्कार की घटनाओं में बढ़ोत्तरी हुई है। उन्होंने बताया कि आलोच्य अवधि में मण्डल में 24450 आपराधिक घटनायें हुई।
अपर आयुक्त ने बताया कि एक जनवरी 2017 से 31 जुलाई 2017 तक मण्डल में निरोधात्मक कार्यवाही में 1490 अपराधियों पर गुण्डा एक्ट, व 154 अपराधियों पर गैगस्टर एक्ट लगाया गया है। उन्होंने बताया कि एक जनवरी 2०17 से 31 जुलाई 2017 तक मुख्य अपराधों के विरूद्ध कार्यवाही में जनपद मेरठ अन्य जनपदों की अपेक्षा पीछे है तथा पुरस्कार घोषित अपराधियों के विरूद्ध कार्यवाही में भी जनपद मेरठ अन्य जनपदों की अपेक्षा पीछे है। इस अवसर पर आईजी राम कुमार, जिलाधिकारी मेरठ समीर वर्मा, हापुड़ कृष्ण करूणेश, गाजियाबाद मिनीस्त्री एस, बागपत भवानी सिंह, गौतमबुद्धनगर बीएन सिंह, बुलन्दशहर रोशन जैकब, एसएसपी मेरठ मंजिल सैनी, गौतमबुद्ध नगर लव कुमार, गाजियाबाद एचएन सिंह, बुलन्दशहर मुनीराज, हापुड़ हेमन्त कुटियाल, मुख्य विकास अधिकारी मेरठ आर्यका अखौरी, बागपत चांदनी सिह, हापुड़ दीपा रंजन, गाजियाबाद रमेश रंजन, बुलन्दशहर जसजीत कौर सहित अन्य अधिकारीगण उपस्थित रहे।

Share it
Top