मेरठ: डकैती के बाद दहशत में है चिकित्सक का परिवार

मेरठ: डकैती के बाद दहशत में है चिकित्सक का परिवार

मेरठ। सरधना के नानू गांव में चिकित्सक के यहाँ पड़ी डकैती में 48 घंटे बाद भी पुलिस के हाथ खाली है। पुलिस अभी तक घटना में शामिल किसी भी बदमाश का सुराग नहीं लगा सकी है। जिसके चलते चिकित्सक का परिवार दहशत के साए में जी रहा है। चिकित्सक से मांगी गई 50 लाख की रंगदारी से उसके परिवार की नींद हराम है। इसके अलावा पुलिस बदमाशों को बकडने के बजाय चिकित्सक के परिवार को ही पूछताछ के नाम पर परेशान कर रही है। हर बार पुलिस का एक ही सवाल बदमाश कब आए कितने आए। क्या-क्या किया, कितनों के हाथ में क्या हथियार था। इतनी बड़ी घटना के बाद भी पुलिस सुरक्षा के नाम पर सिर्फ आश्वासन तक ही सीमित रही। बतादें की सरधनाक्षेत्र के मेरठ-करनाल मार्ग पर नानू गांव में बाहरी छोर हाइवे पर डा. बृजेश कुमार गुप्ता पुत्र अम्बे प्रसाद गुप्ता का मकान है। वह लम्बे समय से चिकित्सा कार्य कर रहे है। बृजेश गुप्ता के मकान के निचले भाग में पूजा क्लीनिक व पूजा मेडिकल हॉल है। डा. बृजेश गुप्ता की पुत्री ज्योति गुप्ता भी प्रेक्टिस करती है। डा. बृजेश गुप्ता परिवार के साथ इसी के ऊपरी हिस्से में रहते है। गत 21 अगस्त की रात में लगभग पोने दो बजे आधा दर्जन से अधिक नकाब पोश बदमाश दीवार फांदकर डा. बृजेश गुप्ता के घर में घुस गए थे। बदमाशों ने हथियारों के बल पर परिवार के सभी सदस्यों को बंधक बनाकर डकैती की घटना को अंजाम दिया था। बदमाशों ने लगभग आठ लाख की नगदी व चार लाख के करीब सोने चांदी के आभूषण लूट लिए थे। साथ ही बदमाशों ने 50 लाख न देने पर उसके पुत्र व पुत्री की हत्या करने की चेतावनी भी दी थी। 48 बीत गए लेकिन पुलिस अभी तक किसी भी बदमाश का सुराग तक नहीं लगा सकी है। जिसके चलते चिकित्सक का परिवार खौफ के साए में जी रहा है। पुलिस ने चिकित्सक के परिवार को अभी तक कोई सुरक्षा नहीं दी है। चिकित्सक के परिजनों का कहना है की पुलिस बार-बार एक ही सवाल करके उन्हें परेशान कर रही है। कितने बदमाश थे, कितने बजे आए थे, कितने बदमाशों के पास किस तरह के हथियार थे। बदमाश क्या-कया सामान लेकर गए। पुलिस के इन सवालों से चिकित्सक के परिजन बहुत परेशान आ चुके है। सुरक्षा के नाम पर चिकित्सक को एक भी पुलिस कर्मी नहीं दिया गया है। जिसके चलते चिकित्सक का परिवार खौफ के साए में जी रहा है।

Share it
Top