मेरठ: योजनाओं में सुनिश्चित हो अनुसूचित जाति वर्ग की भागीदारीत्न राम शंकर कठेरिया

मेरठ: योजनाओं में सुनिश्चित हो अनुसूचित जाति वर्ग की भागीदारीत्न राम शंकर कठेरिया

मेरठ। आयुक्त सभागार में अनुसूचित जाति के व्यक्तियों के उत्पीडऩ व विकास कार्यो की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष डा. राम शंकर कठेरिया ने अधिकारियों को अनुसूचित जाति वर्ग के व्यक्तियों की केंद्र व प्रदेश सरकार की योजनाओं में भागीदारी सुनिश्चित करने, उनकी समस्याओं के प्रति सजग होकर कार्य करने, क्षतिपूर्ति का भुगतान नये एक्ट के अनुसार करने,लम्बित मामलो में चार्जशीट दाखिल करने, निस्तारित सन्दर्भो को आयोग में अपडेट कराने व अनुश्रवण समिति की नियमित बैठके आयोजित करने के लिए निर्देशित किया।
राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष डा. राम शंकर कठेरिया ने कहा कि देशभर में अनुसूचित जाति समाज के लोगों का संवैधानिक दृष्टि से केन्द्र व प्रदेश सरकार की योजनाओं की दृष्टि से संरक्षण व अधिकार के अनुसार पालन हो यह सुनिश्चित करना आयोग की जिम्मेदारी है। इसी के अनुसार आयोग की बैठक बुलाई गई है। उन्होंने कहा कि स्वस्थ समाज का निर्माण करना सभी की जिम्मेदारी है तथा विकास कार्यो में अनुसूचित जाति वर्ग के लोगो को उनका अधिकार मिले व पुलिस प्रशासन उनके अधिकारों व संरक्षण के प्रति सजग हो यह आवश्यक है। सयुक्त सचिव स्मिता चौधरी ने बैठक का संचालन करते हुए बताया कि मंडल के जिलों में अत्याचार निवारण मामलों की स्थिति की समीक्षा के लिये हत्या, बलात्कार, आगजनी आदि मामले लिये गये है। उन्होंने मण्डल के जिलों की चार्जशीट की स्थिति व कनविक्शन रेट की समीक्षा करते हुए बताया कि उत्तर प्रदेश में कनविक्शन रेट अन्य राज्यों की तुलना में बेहतर है। अनुसूचित जाति वर्ग के व्यक्तियों की समस्याओं के निस्तारण के लिए रेसपान्स टाइम अच्छा होना चाहिए तभी समय से न्याय दिलाया जा सकेगा।
आयुक्त डा. प्रभात कुमार ने कहा कि हमें अपने कार्य को धर्म समझकर करना चाहिए तथा शासन के बड़े स्पष्ट निर्देश है कि अनुसूचित जाति व अन्य निर्बल वर्ग के समाज के लिये कार्य करना है व उनकी समस्याओं का समाधान प्राथमिकता पर करना है। इसके दृष्टिगत उनके मिलने के लिये समय लेने की आवश्यकता नहीं है। तहसील दिवस व थानादिवस में हम टीम बनाकर रखते है तथा जरूरत पडऩे पर वह पीडि़त पक्ष के साथ जाकर, उसकी समस्याओं का निस्तारण करते है। आयुक्त ने कहा कि जनपद स्तर पर सर्तकता एवं अनुश्रवण समिति की नियमित बैठके आयोजित कर अनुसूचित जाति वर्ग के व्यक्तियों की समस्याओं का निस्तारण प्राथमिकता पर करे। उन्होंने कहा कि जघन्य अपराधों में अनुसूचित जाति या निर्बल वर्ग के व्यक्ति को प्राथमिकी दर्ज कराने का आदेश न प्राप्त करना पड़े इसके लिए पुलिस व प्रशासन के अधिकारी पूरी सजगता व तत्परता से कार्य करें। इस अवसर पर आईजी रामकुमार व मंडल के सभी जिलाधिकारी उपस्थित रहे।

Share it
Top