मेरठ:प्रदेश में स्वाइन फ्लू के सर्वाधिक मरीज मेरठ में

मेरठ:प्रदेश में स्वाइन फ्लू के सर्वाधिक मरीज मेरठ में

मेरठ। प्रदेश स्वास्थ्य विभाग ने स्वाइन फ्लू की स्थिति की समीक्षा करते हुए मेरठ में सर्वाधिक संदिग्ध रोगियों की जानकारी दी है। रिपोर्ट के मुताबिक राजकीय मेडिकल कॉलेजए मेरठ में स्वाइन फ्लू के सर्वाधिक 41 संदिग्ध मिलेए जिसमें 26 में एच1एन1 पाजिटिव मिला। चार मरीजों की मौत भी हुई हैए जिसमें दो मेरठ के और एक.एक हापुड़ और बुलंदशहर के मरीज थे। रविवार को लैब की जांच में 50 वर्षीय महिला में स्वाइन फ्लू की पुष्टि हुई। उसका लोकप्रिय अस्पताल में इलाज चल रहा है।
मेडिकल कॉलेज की इमरजेंसी वार्ड में स्वाइन फ्लू के रोगियों के लिए आरक्षित बेडों की संख्या बढ़ाकर 30 कर दी गई है। इस आइसोलेशन वार्ड के लिए 12 वेंटीलेटर आरक्षित हैं। डीजीएमई डाण् केके गुप्ता ने स्वाइन फ्लू के मरीजों का उपचार प्राथमिकता के आधार पर करने का निर्देश दिया है। राजकीय मेडिकल कॉलेजों में इस समय 129 बेड और 42 वेंटीलेटर आरक्षित हैं। स्वाइन फ्लू रोगियों की जांच के लिए आइसीएमआर के सहयोग से मेडिकल कॉलेज कानपुरए आगराए मेरठ तथा गोरखपुर में वीडीआर लैब की स्थापना की गई है। सभी जगह ट्रिपल लेयर मास्क उपलब्ध कराए जा रहे हैं। मेडिकल कालेज में एन.95 मास्क उपलब्ध कराने के निर्देश हैं। राजकीय मेडिकल कॉलेजों में 500 से 750 के मध्य टेमी फ्लू टेबलेट उपलब्ध है।
डा. आर चंद्रा ने रविवार को मेरठ पहुंचकर मेडिकल कालेज और जिला अस्पताल स्थित आइसोलेशन वार्ड का निरीक्षण किया। उनके साथ सीएमओ डाण् राजकुमार भी थे। मेडिकल की इमरजेंसी वार्ड में बने सीएमएस डाण् अजीत चौधरी व अन्य मास्क पहनकर पहुंचे। डा. चंद्रा ने चिकित्सा सुविधाओं पर संतोष जताया। कहा कि टेमीफ्लू से लेकर वेंटीलेटर एवं अन्य पर्याप्त चिकित्सा सुविधा उपलब्ध हैं। मरीज को परेशान होकर दिल्ली भागने की आवश्यकता नहीं है।

Share it
Top