चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय: छात्रों को गोली मारने वाला पुलिस मुठभेड़ में घायल

चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय: छात्रों को गोली मारने वाला पुलिस मुठभेड़ में घायल


मेरठ। चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय में परिवहन मंत्री के स्वागत में जुटे दो छात्रों को गोली मारने का आरोपित कादिर गुरुवार को पुलिस के साथ मुठभेड़ में घायल हो गया। उस बीस हजार रुपए का ईनाम घोषित था।

बुधवार को परिवहन मंत्री अशोक कटारिया के स्वागत में चौधरी चरण सिंह विवि के गेट पर बड़ी संख्या में छात्र जुटे थे। इसी दौरान कुछ लोगों ने आकर फायरिंग कर दी। जिसकी चपेट में आकर दो छात्र घायल हो गए। जांच में सामने आया कि फायरिंग करने वाला कादिर था। पुलिस ने उस पर 20 हजार रुपए का ईनाम घोषित कर दिया था और उसकी तलाश में ताबड़तोड़ दबिश दी जा रही थी। गुरुवार को मेडिकल थाना क्षेत्र में पुलिस को कादिर के होने की जानकारी मिली तो उसकी घेराबंदी शुरू कर दी। पुलिस ने कादिर को रूकने का इशारा किया तो उसने फायरिंग शुरू कर दी। जवाबी फायरिंग में कादिर घायल हो गया। पुलिस ने कादिर को अस्पताल में भर्ती कराया और उससे पूछताछ करने में जुटी है।

विश्वविद्यालय में गोलाबारी के बाद चला सघन चेकिंग अभियान

राज्य के परिवहन मंत्री अशोक कटारिया के मेरठ दौरे के दौरान चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय में बुधवार को छात्र गुटों के बीच हुई फायरिंग की घटना से विश्वविद्यालय प्रबंधन में हड़कंप मचा है। आज विश्वविद्यालय प्रबंधन ने इस मामले में सख्ती बरतते हुए कैंपस में सघन चेकिंग अभियान चलाया। इस दौरान जहां बेवजह घूम रहे छात्रों को चेतावनी देकर छोड़ा गया। वही छात्रावासों में अभियान चलाते हुए बाहरी छात्रों को विश्वविद्यालय से बाहर का रास्ता दिखाया गया।

विश्वविद्यालय के चीफ प्रॉक्टर वीरपाल के नेतृत्व में पूरे कैंपस में सघन चेकिंग अभियान चलाया गया। इस दौरान पुलिस और प्रॉक्टर बोर्ड की टीम ने कैंपस में खड़े छात्रों के वाहनों को चेक किया। इसी के साथ छात्रावासों में चेकिंग करते हुए वहां रहने वाले छात्रों को चेतावनी दी कि यदि छात्रावास में कोई बाहरी छात्र पाया गया तो उसे तत्काल पुलिस के हवाले किया जाएगा। हालांकि चेकिंग के दौरान कोई संदिग्ध वस्तु हाथ नहीं लगी। मगर चीफ प्रॉक्टर वीरपाल का दावा है कि अब यह अभियान लगातार जारी रहेगा।


Share it
Top