प्रबन्ध निदेशक ने की सौभाग्य योजना, आईपीडीएस एवं डीडीयूजीजेवाई आदि योजनाओं की समीक्षा

मेरठ। प्रबन्ध निदेशक आशुतोष निरंजन (आईएएस) ने आज यहाँ ऊर्जा भवन मेरठ में सौभाग्य योजना, आईपीडीएस अतिरिक्त योजना, आईपीडीएस योजना, डीडीयूजीजेवाई नवीन योजना आदि के सम्बन्ध में आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते हुए कहा कि उपभोक्ताओं को 24 घण्टे विद्युत आपूर्ति उपलब्ध कराने हेतु विभिन्न योजनाओं के अन्र्तगत किये जाने वाले कार्यों को गुणवत्तापरक शीघ्र पूरा किया जाये।

प्रथम चरण में सौभाग्य योजना से सम्बन्धित कार्य की समीक्षा की गयी, जिसमें कार्यदायी संस्था मैसर्स एल० एण्ड टी० को जनपद मुजफ्फरनगर में 5 एम०वी०ए० का ट्रांसफार्मर ऊर्जीकृत न करने पर शोकोस नोटिस देने के निर्देश दिये एवं अधिशासी अभियन्ता विद्युत वितरण खण्ड-चन्दौसी द्वारा कार्य में शिथिलता बरतने से वितरण परिवर्तक को ऊर्जीकृत न किये जाने पर अधिशासी अभियन्ता को प्रतिकूल प्रविष्टि देने के निर्देश दिये। बैठक में प्रबन्ध निदेशक द्वारा निर्देशित किया गया कि उपभोक्ताओं को बेहतर विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित कराये जाने हेतु विभिन्न योजनाओं के अन्र्तगत किये जाने वाले कार्यों में हीला-हवाली किसी भी दशा में बर्दाश्त नही की जायेगी।

बैठक के द्वितीय चरण में आई.पी.डी.एस. अतिरिक्त योजना की समीक्षा की गयी। जनपद सहारनपुर में कार्यरत कार्यदायी मैसर्स ओमबीर द्वारा बैठक में उपस्थित नही होने एवं कार्यदायी संस्था द्वारा किये गये कार्यों से सम्बन्धित कमियों को दूर न करने पर प्रबन्ध निदेशक द्वारा अप्रसन्नता व्यक्त की गयी। योजना के अर्न्तगत कार्यदायी संस्था द्वारा कार्य में प्रयुक्त सामग्री में त्रुटि सही नहीं करने पर एवं सभा में उपस्थित न होने पर प्रबन्ध निदेशक महोदय, द्वारा अप्रसन्नता व्यक्त की गयी। इस सम्बन्ध में कार्यदायी संस्था मै० ओमबीर सिंह, सहारनपुर को शोकोस नोटिस निर्गत करने के निर्देश दिये गये। इसके अतिरिक्त मैसर्स सत्यसाईं मुरादाबाद को कार्य में पायी त्रुटियों को सही नही करने पर कार्यदायी संस्था को शोकोस नोटिस देने के निर्देश दिये गये।

उन्होंने शहरी क्षेत्रों के लिये लागू आईपीडीएस अतिरिक्त योजना की समीक्षा करते हुए कहा कि चोरी बाहुल्य क्षेत्रों में ए०बी० केबिल लगाने का कार्य एवं जनपद गाजियाबाद के अन्र्तगत आर०एम०यू०( रिंग मेन यूनिट ) एवं ऑटो रिक्लोजर लगाने का कार्य शीध्र पूर्ण किया जाए, जिससे कि जनपद गाजियाबाद को ट्रिपिंग फ्री विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित करायी जा सके। उल्लेखनीय है कि जनपद गाजियाबाद में आईपीडीएस अतिरिक्त योजना में विद्युत आपूर्ति में विशेष रूप से सुधार लाने के लिये रिंग मेन यूनिट लगाने तथा ऑटो रिक्लोजर लगाने का कार्य प्रगति पर है। जिससे उपभोक्ताओं को ट्रिपिंग फ्री विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित की जा सके। ग्रामीण क्षेत्रों में दीन दयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना के अन्तर्गत कुल 72 नग 33/11 के०वी० नये विद्युतगृहों का निर्माण किया जाना प्रस्तावित था जिसमें 72 नये 33/11 के०वी० विद्युतगृहों को ऊर्जीकृत किया जा चुका है। क्षमता वृद्धि हेतु कुल प्रस्तावित 92 नग विद्युतगृहों में से 92 नग विद्युतगृहों की क्षमता वृद्धि की जा चुकी है। लाईन आदि का निर्माण कार्य पूर्ण हो चुका है। नये 33 के०वी० उपकेन्द्रों के निर्माण एवं क्षमता वृद्धि से ग्रामीण क्षेत्रों की विद्युत आपूर्ति में अपेक्षित सुधार होगा।

शहरी क्षेत्रों हेतु इन्टीग्रेटेड पॉवर डेवलपमेन्ट स्कीम (आईपीडीएस) के तहत कुल 62 नग 33/11 के०वी० विद्युतगृहों मे से 62 नग विद्युतगृह पूर्ण किये जा चुके हैं। कुल 47 नग 33/11 के०वी० विद्युतगृहों में क्षमता वृद्धि प्रस्तावित है तथा 47 नग पूर्ण किये जा चुके है। 535 नये 400 के०वी० के एवं 1481 नग 250 के०वी० के नये परिवर्तकों की स्थापना की जा चुकी है। इसके अतिरिक्त 917 परिवर्तक 250 से 400 के०वी० एवं 547 परिवर्तक 100 से 250 के०वी० के परिवर्तकों की क्षमतावृद्धि का कार्य पूर्ण किया जा चुका है। पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम लि०, मेरठ में दीन दयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति (डीडीयूजीजेवाई) योजना के अन्तर्गत 11 के०वी० फीडर सैगरिगेशन/विभक्तीकरण के अन्तर्गत ग्रामीण पोषकों को निजी नलकूप फीडर से अलग किया जा रहा है। फीडर विभक्तिकरण योजना के तहत 725 नग नये 11 के०वी० फीडर का निर्माण पूर्ण एवं 2903 ग्रामों में विद्युत तंत्र के सुदृढ़ीकरण का कार्य किया जा चुका है।

बैठक में राजकुमार अग्रवाल, निदेशक (तकनीकी), आई०पी० सिंह, निदेशक (वाणिज्य), आई०पी० सिंह निदेशक (का० एवं प्रशा०), विराग बंसल, मुख्य अभियन्ता (आईपीडीएस/डीडीयूजीजेवाई) गिरीश नारायण मिश्र, अधीक्षण अभियन्ता (मुख्यालय), आई०पी० सिंह, अधीक्षण अभियन्ता, श्री एम०पी० सिंह, अधिशासी अभियन्ता एवं समस्त क्षेत्रों के मुख्य अभियन्ता, अधीक्षण अभियन्ता, कार्यदायी संस्थाओं एवं पी०एम०ए० आदि अधिकारीगण उपस्थित रहे।

Share it
Top