मुनकाद अली को प्रदेश अध्यक्ष बनाकर मायावती ने खेला मुस्लिम कार्ड

मुनकाद अली को प्रदेश अध्यक्ष बनाकर मायावती ने खेला मुस्लिम कार्ड


मेरठ। बसपा सुप्रीमो मायावती ने बीते दिनों समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन करके और हार के परिणाम को देखने के बाद अब मुनकाद अली को प्रदेश अध्यक्ष बनाकर मुस्लिम कार्ड खेला है।

मायावती ने आगामी होने वाले यूपी विधानसभा उपचुनाव से पहले किसी भी पार्टी को समर्थन ना देने के ऐलान के बीच यूपी में अपनी धूमिल छवि को सुधारने के लिये पूर्व सांसद मुनकाद अली को प्रदेश अध्यक्ष बनाने का ऐलान किया है। कुछ पार्टियों का मानना है कि ऐसा मुस्लिम वोटर पर अपनी पकड़ बनाने के लिए बसपा सुप्रीमो ने यह दांव खेला है। बसपा प्रमुख मायावती ने पहली बार किसी पश्चिम उत्तर प्रदेश के मुस्लिम नेता पर भरोसा जताया है। मुनकाद अली मुस्लिमों को बसपा के साथ जोड़ने का प्रयास करेंगे। बीते चुनाव में बसपा को सपा से गठबंधन करने के बावजूद मुस्लिम वोटों का लाभ नहीं मिल पाया था। बसपा दलित-मुस्लिम एजेंडे पर अपनी पकड़ बनाने की कोशिश कर रही है। जानकारों का मानना है कि मेरठ निवासी मुनकाद अली को प्रदेश संगठन की कमान सौंपकर मायावती ने पश्चिमी उत्तर प्रदेश में बसपा को मजबूत करने का प्रयास किया है।


Share it
Top