बकायेदार उपभोक्ताओं के कनेक्शन विच्छेदित करने से पूर्व भेजा जाये एस०एम०एस० अलर्ट: आलोक कुमार

बकायेदार उपभोक्ताओं के कनेक्शन विच्छेदित करने से पूर्व भेजा जाये एस०एम०एस० अलर्ट: आलोक कुमार

मेरठ। उ०प्र० पावर कारपोरेशन लि०, राज्य में विद्युत चोरी रोकने एवं शत-प्रतिशत बकाया वसूली कर उपभोक्ताओं को बेहतर विद्युत सुविधायें देने के लिये प्रतिबद्ध है। इसी दिशा में विद्युत चोरी पर अंकुश लगाने हेतु विद्युत विभाग एवं विजिलेंस के संयुक्त तत्वाधान में अभियान चलाया जाये।

यह बात प्रमुख सचिव ऊर्जा एवं अध्यक्ष आलोक कुमार (आईएएस) ने आज यहाँ प्रदेश के सभी जिलों के अधिकारियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के माध्यम से आयोजित बैठक के दौरान कही। मेरठ मुख्यालय ऊर्जा भवन विक्टोरिया पार्क से आशुतोष निरंजन (आईएएस) प्रबन्ध निदेशक, पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम लि०, मेरठ द्वारा वीडियो कॉन्फ्रेसिंग में प्रतिभाग किया गया। उन्होंने कहा कि विद्युत चोरी पर अंकुश लगाना आवश्यक है। बिना विद्युत चोरी पर अंकुश लगाये कारपोरेशन द्वारा उदय योजना के लक्ष्यों को प्राप्त करना सम्भव नही है। अधिकारियों को चाहिये कि वे अभियान चलाकर विद्युत चोरी पर लगाम लगाये। उन्होंने कहा कि बकाया वसूली एवं विद्युत चोरी पर प्रभावी कार्यवाही किया जाना बेहद आवश्यक है।

बैठक में उन्होनें एस्सेमेंट एवं रिलाईजेशन की समीक्षा करते हुये कहा कि माह अप्रैल एवं मई में पश्चिमांचल डिस्काम द्वारा एस्सेमेंट एवं रिलाईजेशन में अच्छा काम किया गया है। हालाकि उन्होंने कहा कि सहारनपुर क्षेत्र एफ०आई०आर० अपेक्षा के अनुरूप कम दर्ज हुई है। इस सम्बन्ध में जी०सी० झा, मुख्य अभियन्ता सहारनपुर क्षेत्र सहारनपुर द्वारा एस्सेमेंट एवं रिलाईजेशन में तेजी लाने का आश्वासन दिया गया। मेरठ, मुरादाबाद एवं गाजियाबाद क्षेत्रों द्वारा एस्सेमेंट और रिलाईजेशन के कार्य में अच्छा प्रर्दशन करने पर अध्यक्ष द्वारा प्रसन्नता व्यक्त की गयी। उन्होनें विशेषकर आई०पी० सिंह मुख्य अभियन्ता मुरादाबाद क्षेत्र द्वारा एस्सेमेंट एवं रिलाईजेशन में किये गये कार्यो की प्रशंसा की। बैठक में अध्यक्ष द्वारा आई०टी० विंग को और अधिक सक्रिय करने के निर्देश दिये। उन्होंने आई०टी० विंग को निर्देशित किया कि बकायेदार उपभोक्ताओं को कनेक्शन विच्छेदित किये जाने से पूर्व एस०एम०एस० द्वारा अलर्ट भेजा जाये जिससे कि उपभोक्ता कनेक्शन कटने से पूर्व अपना बकाया जमा करा सके।

इस सम्बन्ध में उन्होंने उपभोक्ताओ को सूचित करने हेतु निर्देशित किया की उपभोक्ता शीघ्र से शीघ्र अपने रजिस्टर्ड मोबाईल नम्बर, हैल्पलाईन नं० 1912 पर उपलब्ध करायें, जिससे कि उपभोक्तओं की सुविधा हेतु एस०एम०एस० अलर्ट भेजा जा सके। वीडियों कॉन्फ्रेसिंग में अध्यक्ष द्वारा फीडर विभक्तिकरण के कार्यों की समीक्षा की। इस सम्बन्ध में राजकुमार अग्रवाल, निदेशक (तकनीकी/वाणिज्य) द्वारा बताया गया कि दीन दयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति (डीडीयूजीजेवाई) योजना के अन्तर्गत 11 के०वी० फीडर सैगरिगेशन/विभक्तीकरण के अन्तर्गत ग्रामीण पोषकों का निजी नलकूप फीडर से अलग किया जा रहा है। फीडर विभक्तिकरण कार्य के तहत 343 नग नये 11 के०वी० फीडर का निर्माण पूर्ण किया जा चुका है। 2948 ग्रामों में विद्युत तंत्र के सुदृढ़ीकरण का कार्य किया जा चुका है। 27 नग सांसद आदर्श गावों का सुदृढ़ीकरण पूर्ण किया जा चुका है।

पश्चिमांचल डिस्काम के मेरठ, बागपत, गाजियाबाद, बुलन्दशहर, हापुड, गौतमबुद्धनगर, सहारनपुर, मुजफ्फरनगर, शामली, मुरादाबाद, सम्भल, अमरोहा, रामपुर, बिजनौर जनपदों में विद्युत चोरी निरोधक थाने संचालित/क्रियाशील किये जाने है। इसी अनुक्रम में मेरठ, हापुड़, गाजियाबाद, गौतमबुद्धनगर एवं बुलन्दशहर में प्रभावी निरीक्षक एण्टी पावर थेफ्ट नियुक्ति कर दी गयी है। जिससे थानों का क्रियान्वयन 15 अगस्त तक किया जा सके। इस सम्बन्ध में अजय कुमार सिंह, अपर पुलिस अधीक्षक प्रवर्तन प०वि०वि०नि०लि०, द्वारा बताया गया है कि तैनात किये गये प्रभारी निरीक्षक, उप निरीक्षक एवं कॉन्स्टेबलों की दो दिवसीय टे्रनिंग प्रदान किया जाना प्रस्तावित है जिससे कि प्रभावी निरीक्षक, उप निरीक्षक एवं कॉन्स्टेबल द्वारा विद्युत चोरी को रोकने की बारिकियों को समझकर विद्युत चोरी पर तत्काल अंकुश लगाया जा सके। आशुतोष निरंजन (आईएएस) प्रबन्ध निदेशक पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम लि०, द्वारा अवगत कराया गया है कि पश्चिमांचल के 14 जनपदों में जनपदवार विद्युत चोरी थानों की स्थापना की जा रही है। एन्टी थेफ्ट थानों के क्रियाशील होने से शीघ्र एफ०आई०आर० दर्ज कराकर विद्युत चोरी से सम्बन्धित प्रकरणों की विवेचना में तेजी आयेगी एवं विद्युत चोरी करने वाले उपभोक्ताओं पर सख्ती से निपटा जा सकेगा।

Share it
Top