क्षतिग्रस्त ट्रांसफार्मरों को प्राथमिकता पर बदले अधिकारी: आलोक कुमार

क्षतिग्रस्त ट्रांसफार्मरों को प्राथमिकता पर बदले अधिकारी: आलोक कुमार

मेरठ। आज आयोजित हुई साप्ताहिक वीडियों कॉन्फ्रेसिंग में आलोक कुमार प्रमुख सचिव (ऊर्जा) एवं अध्यक्ष उ०प्र० पावर कारपोरेशन लि०, लखनऊ ने राजस्व, बिलिंग, थू्र रेट, खराब ट्रांसफार्मर बदलने की कार्य प्रगति आदि बिन्दुओं पर अधिकारियों को सम्बोधित किया। अध्यक्ष ने वीडियों कॉन्फ्रेसिंग में क्षतिग्रस्त ट्रांसफार्मर को शीघ्र बदलने की कार्ययोजना की समीक्षा की। उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित किया गया है कि डेमेज ट्रांसफार्मर को शीघ्र बदला जाये। क्षतिग्रस्त वितरण परिवर्तकों को बदलने का कार्य शहरी क्षेत्रों में 24 घण्टों के अन्दर एवं ग्रामीण क्षेत्र (निजी नलकूप सहित) 48 घण्टे के अन्दर विभागीय व्यवस्था द्वारा किया जा रहा है। डिस्काम द्वारा कार्यशाला मण्डल एवं विद्युत भण्डार मण्डल के परस्पर सहयोग से ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों के क्षतिग्रस्त परिवर्तक बदलने की व्यवस्था को लागू किया गया है, जिससे उपभोक्ताओं को निर्बाध विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित करायी जा सके। वीडियो कॉन्फ्रेसिंग में महा जून के थू्र रेट पर चर्चा की गयी। उन्होंने कहा कि एनर्जी के सापेक्ष थू्र रेट में आवश्यक रूप से बढ़ोतरी की जाये। सहारनपुर क्षेत्र के नकुड़, रामपुर मनिहारन में थू्र रेट कम होने पर अध्यक्ष द्वारा अप्रसन्नता व्यक्त की। उन्होंने कहा कि महा जून में एनर्जी बढऩे के बावजूद भी राजस्व में वृद्धि नही हुई। इस सम्बन्ध में मुख्य अभियन्ता द्वारा थ्रू रेट बढ़ाने का आश्वासन अध्यक्ष महोदय, को दिया गया है। वीडियों कॉन्फ्रेसिंग में अध्यक्ष ने टर्नअप बढ़ाने हेतु निर्देशित किया गया। इस सम्बन्ध में उन्होंने कहा कि डिस्कनेक्शन गैंग बढाने एवं शहरी क्षेत्र में प्रत्येक उपखण्ड अधिकारी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में प्रत्येक अवर अभियन्ता को विच्छेदित गैंग एवं गाड़ी तत्काल उपलब्ध कराने के निर्देश दिये गये। वीडियों कॉन्फ्रेसिंग में पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम लि० की मीटर यूनिट आधारित बिलिंग की स्थिति अन्य डिस्कामों से बेहतर पायी गयी। इस सम्बन्ध में अध्यक्ष द्वारा निर्देशित किया गया कि एम०यू० बेस्ड बिलिंग की जाये, जिससे कि उपभोक्ताओं को समय से व सही बिल प्राप्त हो सके। बैठक में अध्यक्ष महोदय, द्वारा राजस्व वसूली में तेजी लाने के निर्देश दिये गये। इस सम्बन्ध में उन्होंने कहा कि राजस्व वसूली हेतु अधिकारी सकारात्मक दृष्टिकोण अपनायें, जिससे राजस्व वसूली के माहवार लक्ष्यों को प्राप्त किया जा सके। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में राजस्व के साथ-साथ बिलिंग क्वालिटी पर भी ध्यानाकर्षण किया जाये।

Share it
Top