प्रबन्ध निदेशक आशुतोष निरंजन ने बिजलीघरों का किया निरीक्षण

मेरठ। डिस्काम के सभी सम्मानित उपभोक्ताओं को निर्बाध विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित कराने हेतु आशुतोष निरंजन, (आईएएस) प्रबन्ध निदेशक, पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम लि०, मेरठ के निर्देशन में डिस्काम के अन्र्तगत बिजलीघरों का निरीक्षण किया जा रहा है।

इसी अनुक्रम में आज अरविन्द राजवेदी, निदेशक (वाणिज्य) पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम लि०, मेरठ द्वारा 33/11 के०वी० ताहरपुर, बिजलीघर अन्र्तगत विद्युत वितरण खण्ड-प्रथम, मुरादाबाद का औचक निरीक्षण किया गया। निदेशक (वाणिज्य) द्वारा फीडर, पावर परिवर्तक, बिजलीघर के यार्ड, बिजलीघर पर रखे पंजिकायें एवं दस्तावेजों का निरीक्षण किया गया।

लॉग बुक पंजिका में ब्रेकडाउन व शटडाऊन और उनके अटेन्ड आदि सही पाये गये। अर्थिग, वीसीबी की कार्यशीलता, शिकायत रजिस्टर, लॉग शीट, सप्लाई रजिस्टर, निरीक्षण रजिस्टर, टेस्टिगं रजिस्टर, अधिकतम एवं न्यूनतम लोड रजिस्टर, फीडर लाइन चार्ट, परिवर्तक, स्विचगियर इत्यादि रख रखाव रजिस्टर, संयेजन विच्छेदन रजिस्टर, उपभोक्ताओं बिल रजिस्टर आदि का निरीक्षण निदेशक (वाणिज्य) द्वारा किया गया।

निरीक्षण के दौरान प्रोटेक्शन बोर्ड पूर्णतया कार्यरत पाये गये। ट्रांसफार्मर नं०-2, पर 33 केवी रॉकेट/पेनल कमीशन किया जा रहा है। ऑयल टेम्परेचर इन्डीकेटर क्रियाशील कराने के निर्देश दिये गये। 5 एमवीए का ट्रांसफार्मर क्षतिग्रस्त पाये जाने पर निदेशक (वाणिज्य) द्वारा अप्रसन्नता व्यक्त की गयी है।

इस सम्बन्ध में बिजलीघर पर स्थापित समस्त उपकरणों का समुचित ढंग से रख-रखाव करने हेतु निर्देशित किया गया, जिससे उपभोक्ताओं को बेहतर विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित करायी जा सके। उल्लेखनीय है कि 13 मई को निदेशक (वाणिज्य) द्वारा 33/11 के०वी० सुडानपुर बिजलीघर अन्र्तगत विद्युत वितरण खण्ड-प्रथम, अमरोहा के निरीक्षण करने पर उपभोक्ताओं को समय पर व सही बिल उपलब्ध कराने के निर्देश दिये। बिजलीघर के यार्ड के निरीक्षण के दौरान उन्होंने ट्रांसफार्मर की अर्थिंग, ट्रांसफार्मर ऑयल आदि चेक किये।

इसके अतिरिक्त बिजलीघर पर उपस्थित समस्त पंजिका रजिस्टरों का निरीक्षण किया। राजस्व वसूली बढाने हेतु अधिशासी अभियन्ता स्तर से लाईन मैन स्तर तक कार्य योजना तैयार कर वसूली बढाने के निर्देश दिये। आशुतोष निरंजन, (आईएएस) प्रबन्ध निदेशक, पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम लि०, मेरठ द्वारा निर्देशित किया गया कि ग्रीष्मकाल में उपभोक्ताओं को बेहतर विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित कराये जाने हेतु परिवर्तक एवं उपकरणों का रख-रखाव अति महत्वपूर्ण है। इस सम्बन्ध में उन्होंने निर्देशित किया कि रोस्टिंग न्यूनतम कर उपभोक्ताओं को गुणवत्तापरक विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित की जाये।

Share it
Top