विद्युत चोरी पर अंकुश लगाकर उपभोक्ताओं को दी जायेगी बेहतर विद्युत आपूर्ति: प्रबन्ध निदेशक

विद्युत चोरी पर अंकुश लगाकर उपभोक्ताओं को दी जायेगी बेहतर विद्युत आपूर्ति: प्रबन्ध निदेशक

मेरठ। पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम लि० मेरठ, विद्युत चोरी पर अंकुश लगाने हेतु दृढ़ संकल्पित है। इसके लिये डिस्काम द्वारा जिन पोषकों पर लाईन हानियाँ अधिक है तथा 10 के.वी.ए. से ऊपर, कम खपत वाले उपभोक्ताओं को चिन्हित कर ऐसे क्षेत्रों को चिन्हित कर छापेमारी कार्यवाही की जा रही है। 25 किलोवाट के ऊपर वाले उपभोक्ताओं के मीटरों की एम.आर.आई. एवं विश्लेषण करके विद्युत चोरी की रोकथाम हेतु एच.वी. सेल का गठन किया गया है। हाई वोल्टेज ऑडिट सेल (एच.वी. ऑडिट सेल) द्वारा अभियान चलाकर अधिक भार वाले उपभोक्ताओं को रीडिंग एवं शत-प्रतिशत ए.एम.आर. के माध्यम से बिलिंग सुनिश्चित कराने मीटर गुणांक, डबल मीटरिंग, टैम्पर रिपोर्ट, लोड फैक्टर इत्यादि का विश्लेषण कर निश्चित समय-सीमा में कार्यवाही सुनिश्चित की जा रही है।

चोरी बाहुल्य क्षेत्रों में जहाँ कटिया इत्यादि या सीधे एल.टी. लाईन पर तार डालकर चोरी की शिकायतें थी तथा संवेदनशील क्षेत्रों में ए.बी. केबल डाला जा रहा है जिसके अच्छे परिणाम आ रहे है तथा विद्युत चोरी पर भी अंकुश लगा है साथ ही ट्रांसफार्मर भी क्षतिग्रस्त कम हो रहे हैं। डिस्काम के अन्र्तगत दिनांक 01.04.2018 से 13.05.2019 तक जनपद मेरठ, बागपत, गाजियाबाद, बुलन्दशहर, हापुड़, गौतमबुद्धनगर, सहारनपुर, मुजफ्फरनगर, शामली, मुरादाबाद, सम्भल, अमरोहा, रामपुर, बिजनौर में विभागीय एवं प्रवर्तन दल की संयुक्त रूप से टीमों द्वारा ताबड़तोड़ छापेमारी की गयी। गाजियाबाद क्षेत्र, गाजियाबाद के अन्र्तगत विभागीय एवं प्रवर्तन दल की संयुक्त टीमों द्वारा घरेलू, वाणिज्यिक एवं औद्योगिक श्रेणी के संयोजनों की चेकिंग के अन्र्तगत कुल 30056 छापे डाले गये, जिनमें से 18665 प्रकरणों में सीधे विद्युत चोरी पकड़ी गयी, जिसके विरूद्ध 7557 प्रकरणों में प्राथमिकी दर्ज हुई जिसके सापेक्ष 1788.98 लाख की वसूली की गई।

मेरठ क्षेत्र के अन्र्तगत कुल 11852 छापे डाले गये जिनमें से 7335 प्रकरणों में सीधे विद्युत चोरी पकड़ी गयी, जिसके विरूद्ध 3820 प्रकरणों में प्राथमिकी दर्ज हुई जिसके सापेक्ष 812.59 लाख की वसूली की गई। नोएडा क्षेत्र, नोएडा के अन्र्तगत कुल 4549 छापे डाले गये, जिनमें से 3483 प्रकरणों में सीधे विद्युत चोरी पकड़ी गयी, जिसके विरूद्ध 1754 प्रकरणों में प्राथमिकी दर्ज हुई, जिसके सापेक्ष 1721.2 लाख की राजस्व वसूली की गयी। मुरादाबाद क्षेत्र, मुरादाबाद के अन्र्तगत कुल 22245 छापे डाले गये जिनमें से 15763 प्रकरणों में सीधे विद्युत चोरी पकड़ी गयी जिसके विरूद्ध 5142 प्रकरणों में प्राथमिकी दर्ज हुई जिसके सापेक्ष 1160.52 लाख की राजस्व वसूली की गई। सहारनुपर क्षेत्र, सहारनुपर के अन्र्तगत कुल 18450 छापे डाले गये, जिनमें से 11800 प्रकरणों में सीधे विद्युत चोरी पकड़ी गयी, जिसके विरूद्ध 2815 प्रकरणों में प्राथमिकी दर्ज हुई, जिसके सापेक्ष 626.11 लाख की राजस्व वसूली की गयी। पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम लि० मेरठ, के अन्र्तगत विभागीय एवं प्रवर्तन दल की संयुक्त टीमों द्वारा कुल 87152 संयोजन चेक किये गये, जिनमें से 57०46 प्रकरणों में सीधे विद्युत चोरी पकड़ी गयी, जिसके विरूद्ध 21088 प्रकरणों में प्राथमिकी दर्ज हुई जिसके सापेक्ष रू० 6109.40 लाख की राजस्व वसूली की गयी।

इस सम्बन्ध में आशुतोष निरंजन (आईएएस) प्रबन्ध निदेशक, पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम लि० मेरठ, द्वारा उपभोक्ताओं से अपील की गयी है कि विद्युत का अनधिकृत रूप से प्रयोग न करें। बिजली का सद्उपयोग कर दूसरों को भी जागरूक करें। अपने विद्युत बिलों का नियमित रूप से भुगतान करें। बिजली चोरी से सम्बन्धी शिकायत मोबाईल नं० 9193330020, हेल्पलाईन नम्बर 1912 एवं टोल फ्री 1800-180-3002 पर तथा विभाग के ट्वीटर हैण्डल /उकचअअदस पर दर्ज करा सकते हैं। सूचना देने वाले का नाम पूर्णतया गोपनीय रखा जायेगा।

Share it
Top