प्रबन्ध निदेशक ने किया बिजलीघर का औचक निरीक्षण...ह्म् निरीक्षण में खामियाँ मिलने पर निर्गत की गयी उपखण्ड अधिकारी एवं अवर अभियन्ता को चेतावनी

मेरठ। आशुतोष निरंजन, (आईएएस) प्रबन्ध निदेशक, पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम लि०, मेरठ के निर्देशन में डिस्काम के अन्र्तगत बिजलीघरों का औचक निरीक्षण किया जा रहा है जिससे कि ग्रीष्मकाल में उपभोक्ताओं को निर्बाध विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित करायी जा सके। इसी अनुक्रम में आज अरविन्द राजवेदी, निदेशक (वाणिज्य) पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम लि०, मेरठ द्वारा 33/11 के०वी० उपकेन्द्र हापुड़ के पिलखुआ-प्रथम/द्वितीय बिजलीघर का औचक निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान निदेशक (वाणिज्य) द्वारा केपेसिटर बैंक प्रयोग में नही पाये गये। इस सम्बन्ध में नये केपेसिटर बैंक लगाने हेतु निर्देशित किया गया। ब्रेक डाउन के शीघ्र समाधान हेतु प्रभावी कार्यवाही के निर्देश दिये जिससे उपभोक्ताओं को रोस्टर के अनुसार सुचारू रूप से विद्युत आपूर्ति की जा सके। उन्होने उपभोक्ताओं की शिकायत का प्राथमिकता पर निस्तारण करने के निर्देश अधिकारियों को दियेे। 33/11 के०वी० बिजलीघर के निरीक्षण करने पर निदेशक (वाणिज्य) ने उपभोक्ताओं को समय पर व सही बिल उपलब्ध्ध कराने के निर्देश दिये। बिजलीघर के यार्ड के निरीक्षण के दौरान उन्होंने ट्रांसफार्मर की अर्थिंग, ट्रांसफार्मर ऑयल आदि चेक किये। इसके अतिरिक्त बिजलीघर पर उपस्थित समस्त पंजिका रजिस्टरों का निरीक्षण किया। बिजलीघर ब्रेकर का मेन्टीनेंस खराब पाये जाने, उपभोक्ताओं के बैठने की व्यवस्था एवं पीने के पानी की उचित व्यवस्था नही पाये जाने पर सम्बन्धित उपखण्ड अधिकारी तथा अवर अभियन्ता को चेतावनी निर्गत की गयी। आशुतोष निरंजन, (आईएएस) प्रबन्ध निदेशक, पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम लि०, मेरठ द्वारा बताया गया कि आगामी ग्रीष्मकाल में उपभोक्ताओं को बेहतर एवं निर्बाध विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित कराने हेतु अधिकारियों द्वारा बिजलीघरों का औचक निरीक्षण किया जा रहा है। औचक निरीक्षण में फीडर, पावर परिवर्तक, बिजलीघर के यार्ड एवं उपभोक्ताओं की समस्याओं के समाधान करने के निर्देश अधिकारियों को प्रबन्धन द्वारा दिये गये हैं।

Share it
Top