'सरचार्ज समाधान योजना' में दिखा उपभोक्ताओं का उत्साह: मुख्य अभियन्ता

मेरठ। घरेलू एवं व्यवसायिक (1 कि०वा० एवं 2 कि०वा०) तथा प्राईवेट टयूबवैल (समस्त विद्युत भार) के विद्युत उपभोक्ताओं हेतु सरचार्ज समाधान योजना दिनांक 1 जनवरी से 25 मार्च तक लागू की गयी थी। योजना में विद्युत बिलों में विलम्बित भुगतान अधिभार के रूप में लगायी गयी धनराशि में 100 प्रतिशत की छूट दी गयी।

योजना में पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम लि०, के उपभोक्ताओं का विशेष उत्साह देखने को मिला। 31 मार्च को पविविनिलि जनपद मेरठ, बागपत, गाजियाबाद, बुलन्दशहर, हापुड, गौतमबुद्धनगर, सहारनपुर, मुजफ्फरनगर, शामली, मुरादाबाद, सम्भल, अमरोहा, रामपुर, बिजनौर जनपदों में कैश काउण्टरों पर सुबह से ही भीड रही। इस सम्बन्ध में एस०बी० यादव, मुख्य अभियन्ता, मेरठ क्षेत्र मेरठ द्वारा बताया गया कि विद्युत उपभोक्ताओं में योजना को लेकर भारी उत्साह है, दिनांक 30 व 31 मार्च में अब तक लगभग 19144 उपभोक्ताओं द्वारा 32 करोड 50 लाख की धनराशि जमा की गयी है।

उल्लेखनीय है कि इस योजना का लाभ प्राप्त करने हेतु उपभोक्ता को पंजीकरण के समय बिल में दर्शाये जा रहे मूल धनराशि का न्यूनतम 30 प्रतिशत तक जमा कर पंजीकरण कराना था। उपरोक्त श्रेणी के उपभोक्ताओं द्वारा पंजीकरण करा कर इस स्वर्णिम अवसर का लाभ उठाया गया। सरचार्ज समाधान योजना के अन्र्तगत बकाया जमा कराने में जन सुविधा केन्द्रों का विशेष योगदान रहा। योजना के अन्र्तगत पंजीकृत उपभोक्ताओं द्वारा जन सुविधा केन्द्रों में बढचढ कर मूल धनराशि का शेष भुगतान जमा कराकर शत प्रतिशत छूट का लाभ प्राप्त किया गया। आशुतोष निरंजन, (आईएएस) प्रबन्ध निदेशक, पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम लि०, मेरठ द्वारा निर्देशित किया गया कि जन सुविधा केन्द्रों के प्रति उपभोक्तााओं का विश्वास बढाने हेतु वी०एल०ई० (विलेज लेवल एन्टरप्रनोयर) को प्रोत्साहित किया जाये, जिससे कि रूरल टर्नअप बढ़ाया जा सके।

Share it
Top