मेरठ पुलिस से सांठ-गांठ कर ग्राम प्रधान ने गवाहों को फंसाया...दर्जनों लोगों ने एसएसपी को प्रार्थनापत्र सौंपकर की निष्पक्ष कार्यवाही की मांग

मेरठ। मुख्यमंत्री योगी व एडीजी ने साफ निर्देश दे रखे है कि किसी तरह से भी निर्दाष को न फंसाया जाए। इसके बावजूद भी पुलिस अपनी हरकत से बाज नहीं आ रही है। बहसूमा पुलिस ने ग्राम प्रधान से साज करके हत्या में शामिल गवाहों को झूठे मुकमदें मे फंसा दिया। शुक्रवार को दर्जनों लोग पुलिस कार्यालय पहुंचे और निष्पक्ष कार्यवाही की मांग करते हुए प्रार्थनापत्र दिया।
बहसूमा थानाक्षेत्र के अकबरपुर सादात के रहने वाले इमरान पुत्र शाकर अली ने बताया कि 2 मई 2017 को गांव निवासी प्रधान कलीम, सोनू, बाकेजहां व रजिया ने उसके 4 वर्षीय पुत्र की हत्या कर दी थी। हत्या के बाद से पुलिस ने ग्राम प्रधान कलीम के दवाब में कोई कार्यवाही नहीं की। उल्टा जो घटना के गवाह है, उन्हें झूठे मुकदमें में फंसा दिया गया। पीड़ित ने आरोप लगाया कि अब ग्राम प्रधान व अन्य आरोपी धमकी दे रहे है कि इस मामले में समझौता नहीं किया तो उसके अन्य परिजनों को भी बलात्कार के आरोप में जेल भिजवा देंगे। जिस कारण पीड़ित पक्ष में भय व्याप्त है। पीड़ित ने एसएसपी से निष्पक्ष कार्यवाही की मांग करते हुए प्रार्थनापत्र दिया है। एसएसपी ने निष्पक्ष कार्यवाही का आश्वासन दिया है।

Share it
Top