मेरठ: सलामत रहे बौनेपन की शिकार दंपति शमा-शाहरुख की गुडिय़ा, सब मिलकर दुआ कर रहे है मां है खतरे से बाहर, लेकिन नवजात बच्ची की हालत गम्भीर

मेरठ: सलामत रहे बौनेपन की शिकार दंपति शमा-शाहरुख की गुडिय़ा, सब मिलकर दुआ कर रहे है  मां है खतरे से बाहर, लेकिन नवजात बच्ची की हालत गम्भीर

मेरठ। सब मिलकर दुआ करोए सलामत रहे शमा.शाहरुख की गुडिय़ा छोटे कद के शमा और शाहरुख की गोद में कुदरत ने नए साल के पहले दिन नन्हा मेहमान भेजा है। हापुड़ का यह युवा दंपति जन्म से एकोण्ड्रोप्लेजिया (बौनेपन) का शिकार है। शमा ने दोपहर मेडिकल अस्पताल में बेटी को जन्म दिया।
छोटे कद के एक दम्पत्ति शमा और शाहरुख की गोद में कुदरत ने नए साल के पहले दिन नन्हा मेहमान भेजा है। यह युवा दंपति जन्म से एकोण्ड्रोप्लेजिया (बौनेपन) का शिकार है। बच्ची का वजन सिर्फ 1ण्2 किग्रा है। बच्ची के फेफड़े पूरी तरह विकसित न होने की वजह से उसे श्वांस लेने में दिक्कत है। एनआईसीयू में उसका इलाज जारी है।
बहादुरगढ़, हापुड़ के रहने वाले शाहरुख बीकॉम के छात्र हैं। उनकी लंबाई 44 इंच है। पत्नी शमा करीब 52 इंच की है। प्रसव के लिए शमा को सुबह एक निजी अस्पताल से लाकर मेडिकल कॉलेज के गायनिक वार्ड में भर्ती कराया गया। डॉक्टरों ने दोपहर में शमा का ऑपरेशन किया। पहली संतान के रूप में बेटी पैदा हुई है। गायनिक विभाग की हेड डाण् अभिलाषा गुप्ता ने बताया कि छोटे कद की शमा का प्रसव जटिल था। इस वजह से सर्जरी करनी पड़ी। मां पूरी तरह स्वस्थ है मगर बच्ची की तबियत ठीक नहीं है। समान्य नवजातों के मुकाबले बच्ची का वजन आधे से भी कम है। शरीर का आकार सामान्य से कम है। श्वांस लेने में उसे परेशानी है। उसे एनआईसीयू में भर्ती करना पड़ा है। शाहरुख और शमा की शादी पिछले साल मार्च में हुई। शमा एमए फाइल कर चुकी हैए जबकि शाहरुख बीकॉम कर रहे हैं। किसान परिवार के शाहरुख के मम्मी.पापा अस्पताल में बच्ची की सलामती के लिए दुआ कर रहे हैं। अस्पताल में मौजूद अन्य लोग के साथ ही हॉस्पिटल स्टाफ भी बच्ची के लिए दुआ कर रहे हैं।

Share it
Top