मेरठ: बेटा-बहू ने बूढ़ी मां को जंजीरों में बांधा... बंधे पैर और ताले के साथ ऑटो की सीट पर दिन गुजारती है वृद्धा

मेरठ: बेटा-बहू ने बूढ़ी मां को जंजीरों में बांधा... बंधे पैर और ताले के साथ ऑटो की सीट पर दिन गुजारती है वृद्धा

मेरठ। 85 साल की बूढ़ी मां घर से बिना बताए कहीं चली ना जाए, इसलिए बेटे-बहू ने उसके पैर में जंजीर बांधकर ताला लगा दिया। बूढ़ी मां ने भी इसका विरोध नहीं किया। वह दिनभर जंजीर से बंधे पैर और उसमें लगे ताले के साथ एक ऑटो की सीट पर अपना दिन गुजारती है। रात में बेटा-बहू उसे अपने साथ घर के अंदर ले जाते हैं। बहू ने बताया मां को खाना खिलाने के बाद भी बोलती है कि उन्होंने खाना नहीं खाया। मामला खरखौदा के लोहिया नगर की कांशीराम कालोनी का है। जहां एक बूढ़ी महिला को जंजीर से बांधकर ताला लगाकर रखा जाता है। आबिदा ने बताया कि उसकी सास अकबरी बेगम मानसिक रूप से बीमार है। जिस कारण उसे कुछ याद नहीं रहता। वह बिना बताए घर से चली जाती हैं। कालोनी में इधर-उधर जाने से वह कई बार चक्कर खाकर गिर जाती है। जिससे उसके चोट लगती है। सास जब बिना बताए घर से बाहर कहीं चली जाती है तो उसे कालोनी में लोग पत्थर मारते हैं। 3 महीने से सास के पैर में जंजीर बांध कर रखा है। केवल दिन में ऐसा करते हैं। रात में अपने साथ घर के अंदर ले जाते हैं। इनका डॉक्टर से इलाज भी चल रहा है।
आबिदा ने कहा कि खाना दिन में चाहे कितनी बार दे दो, वह यही कहेगी कि मैंने खाना नहीं खाया। उनकी भूलने की बीमारी की वजह से ही उन्हें इस तरह से रखने पर वह मजबूर हो रहे हैं। पड़ोसियों ने बताया कि बुजुर्ग महिला के पति सरकारी नौकरी में थे और उनकी मृत्यु के बाद पेंशन के पैसे उसे ही मिलते हैं, जो उसका बेटा खर्च करता है। बेटा कचहरी में एक वकील के यहां मुंशी है। इस मामले की सूचना मिलने पर थाना खरखौदा पुलिस मौके पर पहुंची और आबिदा से पूछताछ की। बाद में पुलिस की मौजूदगी में आबिदा की सास को पुलिस ने जंजीर से मुक्त कराकर घर के अंदर कराया। एसपी सिटी मानसिंह चौहान ने कहा कि बुजुर्ग महिला को जंजीर से बांधकर रखने की सूचना मिलने पर थाना खरखौदा पुलिस को मौके पर भेजा गया था। अभी यही पता चला है कि उसकी भूलने की बीमारी के चलते परिजनों से उसे बांध कर रखा है। किसी महिला के साथ ऐसा व्यवहार ठीक नहीं है। पुलिस अपने स्तर से जो हो सकता है, कार्रवाई कर रही है।

Share it
Top