बसपा नेता की कार से बरामद हुई 50 पेटी शराब, तीन गिरफ्तार, गाड़ी में लगाया था भाजपा का झण्डा

बसपा नेता की कार से बरामद हुई 50 पेटी शराब, तीन गिरफ्तार, गाड़ी में लगाया था भाजपा का झण्डा


कानपुर। कानपुर में जहरीली शराब से हुयी मौतों के बाद से पुलिस प्रशासन द्वारा सख्त रवैया अख्तियार किया जा रहा है। इसके चलते पुलिस को एक बार फिर बड़ी कामयाबी मिली है। पुलिस ने बसपा नेता की कार से 50 पेटी शराब बरामद की है। इस मामले में तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है। वहीं छह अन्य चिन्हित किये गये हैं, जिनकी पुलिस तलाश कर रही है, इनमें दो महिलाएं हैं।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अनंत देव ने सोमवार को प्रेस वार्ता करते हुए बताया कि काफी दिनों से सूचना मिल रही थी कि घाटमपुर में राजनीतिक लोग अवैध शराब का कारोबार कर रहे हैं। इसके चलते मुखबिरों को सक्रिय किया गया और सूचना मिली कि देर रात एक एक्सयूवी कार से अवैध शराब जा रही है, जिसके बाद घाटमपुर पुलिस ने घाटमपुर के पास ही नाकेबंदी करके कार को रोक लिया। पुलिस की तलाशी में गाड़ी से 50 पेटी अवैध शराब बरामद हुई। मौके से दो लोगों को अमित कठेरिया और योगेन्द्र कुशवाहा को गिरफ्तार किया गया। एक्सयूवी कार में भाजपा का झंडा लगा हुआ था। जबकि गाड़ी बसपा नेता कल्लू मिश्रा की है। यह लोग भाजपा का झंडा लगा सरकार की आड़ में इस कारोबार को अंजाम दे रहे थे। बाद में कल्लू को भी दबोच लिया गया।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने बताया कि योगेंद्र कुशवाहा बसपा पार्टी में जिला पंचायत सदस्य रहने के साथ ही घाटमपुर विधानसभा का बसपा कोआर्डिनेटर रह चुका है। योगेंद्र कुशवाहा का सहयोगी अमित कठेरिया भी बसपा पार्टी में सक्रिय था। अमित 25 हजार का इनामी अपराधी भी है। पुलिस से बचने के लिये यह लोग जिस पार्टी की सरकार होती है उस पार्टी का झंडा लगाकर चलते हैं। इसके साथ ही छह और लोगों के नाम सामने आये हैं, जिनमें दो महिलाएं भी हैं, इन सभी की गिरफ्तारी के लिए पुलिस टीम को लगा दिया गया है। बताया कि मास्टर माइंट अमित कठेरिया है। तीनों गिरफ्तार अभियुक्तों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करते हुए जेल भेजा जा रहा है।

अभियुक्तों पर होगी सख्त कार्रवाई

आईजी आलोक सिंह ने बताया कि अवैध शराब का कारोबार करने वालों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। अवैध शराब के नेटवर्क को ध्वस्त किया जायेगा। इस कारोबार को करने वालों को राजनीतिक संरक्षण मिला हुआ है। कुछ पुलिस कर्मी भी इसमें लिप्त थे, जिन पर एक्शन लिया गया है।


Share it
Top