महात्मा गांधी अपने आपमें है संस्कार, खुद बढ़ाने होंगे स्वच्छता की ओर एक कदमः डीएम

महात्मा गांधी अपने आपमें है संस्कार, खुद बढ़ाने होंगे स्वच्छता की ओर एक कदमः डीएम


- शिक्षण संस्थाओं में झाड़ू लगाकर चलाया गया सफाई अभियान

हमीरपुर। जिले में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती यहां धूमधाम से मनाई जा रही हैं। अधिकारियों ने और शिक्षण संस्थाओं में स्वच्छता कार्यक्रम के तहत सफाई अभियान चलाया गया। जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश, अपर जिलाधिकारी विनय प्रकाश श्रीवास्तव सहित अन्य लोगों ने गांधी पार्क पर बापू की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उन्हें नमन किया वहीं स्कूली बच्चों की रैली में भी प्रतिभाग किया।

हमीरपुर नगर में जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने कलेक्ट्रेट मीटिंग हाल में आयोजित गोष्ठी में कहा कि महात्मा गांधी अपने आपमें पूरी किताब और संस्कार है जिसे पढ़कर समझा जा सकता हैं कि उस जमाने में गांधी ने कैसे संघर्ष किया होगा और विभिन्न विचारधाराओं के लोगों को एक जगह कैसे एकत्र किया होगा। उन्होंने बताया कि बाबू को सच्ची श्रद्धांजलि तभी होगी जब अपने खुद के कदम स्वच्छता की ओर आगे बढ़ाये। जिलाधिकारी ने बताया कि आज से प्लास्टिक पूरी तरह से प्रतिबंधित हो गयी हैं इसलिये लोग कपड़े के झोले का इस्तेमाल कर स्वच्छ भारत बनाने में अपना योगदान करें। उन्होंने साहित्य और सामाजिक विषयों पर आधारित एक हजार पुस्तकें लाइब्रेरी में व्यवस्था कराने के निर्देश प्रशासनिक अधिकारी को दिये। जिलाधिकारी ने शास्त्री को भी श्रद्धासुमन अर्पित करते हुये उन्हें याद किया।

गोष्ठी में अपर जिलाधिकारी विनय प्रकाश श्रीवास्तव, एसडीएम सदर राजेश कुमार चौरसिया, नाजिर कलेक्ट्रेट गुरुदेव सिंह, कलेक्ट्रेट कर्मचारी संघ अध्यक्ष जगदीश निगम सहित तमाम कर्मचारियों ने भी विचार रखे। जिलाधिकारी ने गांधी पार्क पर बापू की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उन्हें नमन किया और रामधुन गाकर स्वच्छता का संदेश दिया। नगर पालिका परिषद के चेयरमैन कुलदीप निषाद व बाबूराम प्रकाश त्रिपाठी ने भी गांधी प्रतिमा पर माल्यार्पण कर रामधुन गाया। इसके बाद जिलाधिकारी सहित तमाम अधिकारी और अन्य लोगों ने स्कूली बच्चों की रैली में प्रतिभाग किया।

इधर स्थानीय सरस्वती विद्यामंदिर इण्टरकालेज में गांधी और शास्त्री की जयंती पर आयोजित कार्यक्रम में प्रधानाचार्य रमेश चन्द्र ने कहा कि हमारे देश के तीन राष्ट्रीय पर्वों में से एक गांधी जयंती है जिसे मनाने का उद्देश्य हैं कि हम इतिहास को जाने और सत्य अहिंसा का पालन करें। उन्होंने कहा कि हम इन दोनों महापुरुषों को तभी सच्ची श्रद्धांजलि अर्पित कर सकेंगे जब हम सभी उनके सिद्धांतों का पालन करें क्योंकि उनका जीवन सादगी पूर्ण रहा है तथा अपना देश ही नहीं बल्कि सम्पूर्ण विश्व उन्हें शांति का दूत मानता हैं। गांधी ने एकजुटता का पाठ पढ़ाया। आचार्य वरदायनी गुुप्ता ने बताया कि स्वच्छता व पेड़ लगाने का परिणाम है कि आज प्रकृति हमें भरपूर बारिश व वातावरण को प्रदूषित होने से बचा रही हैं। आचार्य कमलेश ने कहा कि इन महान विभूतियों के जीवन से प्रेरणा लेनी चाहिये और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के स्वच्छता अभियान को गति देनी चाहिये। विद्यालय के छात्र रोशन ने कहा कि हमें विश्व युद्ध नहीं वरन हमें विश्व शांति व स्वच्छता चाहिये। कार्यक्रम की शुरुआत वन्दना गीत से हुयी। इसके बाद प्रधानाचार्य के नेतृत्व में विद्यालय के सभी आचार्यों व विद्यालय के प्रधानमंत्री करुणा, निधान पाण्डेय ने झाड़ू लगाकर सफाई अभियान चलाया। प्रधानाचार्य ने शासन से प्राप्त छात्रवृत्ति प्रमाणपत्र का वितरण छात्रों में किया।

इस मौके पर ज्ञानेश जडिय़ा, वेदप्रकाश शुक्ला, बलराम सिंह व देशराज सहित अन्य लोग मौजूद रहे। जिले के सुमेरपुर, मौदहा, राठ, सरीला व कुरारा में भी गांधी जयंती धूमधाम से मनायी जा रही है।


Share it
Top