पुलिस लाइन कालोनी की चौथी मंजिल से कूदकर हेड कांस्टेबल ने दी जान

पुलिस लाइन कालोनी की चौथी मंजिल से कूदकर हेड कांस्टेबल ने दी जान


-घटना के पीछे भाई ने पत्नी से विवाद को बताया वजह

कानपुर। जनपद के कोतवाली थानाक्षेत्र में स्थित पुलिस लाइन आवास में रहने वाले मुख्य आरक्षी ने चौथी मंजिल से कूदकर जान दे दी। आवाज सुनकर पहुंचे आवासीय कॉलोनी में रहने वाले पुलिस कर्मियों ने घटना की जानकारी आलाधिकारियों को देते हुए गंभीर हालत में साथी कर्मी को अस्पताल पहुंचाया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

मूलरुप से औरैया जनपद में रहने वाला महेश भदौरिया पुलिस विभाग में मुख्य आरक्षी के पद पर कार्यरत था। इन दिनों वह कानपुर जनपद में तैनात था और पुलिस लाइन स्थित आवासीय कॉलोनी में रहता था। सोमवार की अर्धरात्रि अचानक मुख्य आरक्षी ने कॉलोनी के चौथी मंजिल के छज्जे से छलांग लगा दी। कॉलोनी में रहने वाले पुलिस कर्मियों ने आवाज सुनी और बाहर आकर देखा तो सभी आवाक रहे गये। आनन-फानन कर्मियों ने आलाधिकारियों को जानकारी दी। सूचना मिलते ही कोतवाली थाना पुलिस पहुंची और मुख्य आरक्षी को अस्पताल पहुंचाया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

मृतक कर्मी के भाई रमेश चंद्र भदौरिया ने बताया कि महेश का अपनी पत्नी और बच्चों से मुकदमा चल रहा था। जिसकी वजह से उसको शराब पीने की लत लग गयी थी। महेश बीती रात आवास की चौथी मंजिल पर पहुंचा और उसने वहां से छलांग लगा दी। सुबह जब उसके साथियों ने देखा तो अपने विभाग में इसकी जानकारी दी। सिपाही के आत्महत्या करने की सूचना पर एसएसपी समेत कई अधिकारी मौके पर पहुंचे और बैरक में रह रहे सिपाहियों से पूछताछ की।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अनंत देव ने घटना को लेकर कहना है कि मुख्य आरक्षी महेश भदौरिया पुलिस लाइन में बने बैरक में रह रहा था। सोमवार की अर्धरात्रि को उसने बैरक की चौथी मंजिल पर पहुंचकर छलांग लगा दी। पूछताछ में पता चला है कि वह शराब का लती था और पत्नी व बच्चों से मुकदमा चल रहा है। फिलहाल पुलिस इसको एक्सीडेंट की घटना मानकर जांच कर रही है।


Share it
Top