प्रयागराज में अधिवक्ता की हत्या पर कचहरी में कामकाज हुआ ठप.. हत्या के विरोध में साथियों ने मनाया शोक दिवस

प्रयागराज में अधिवक्ता की हत्या पर कचहरी में कामकाज हुआ ठप.. हत्या के विरोध में साथियों ने मनाया शोक दिवस


कानपुर। प्रयागराज में अधिवक्ता सुशील पटेल की हत्या को लेकर सोमवार को कानपुर में अधिवक्ताओं ने शोक दिवस मनाया। शोक दिवस के साथ ही अधिवक्ता कार्यों से विरत रहे। इस वजह से कचहरी का कामकाज पूरी तरह से ठप रहा और वादकारियों के मुकदमों में सुनवाई नहीं हो सकी।

प्रयागराज में रविवार की शाम मोटरसाइकिल सवार बदमाशों ने अधिवक्ता सुशील पटेल की गोली मारकर हत्या कर दी। इस घटना को लेकर अधिवक्ताओं में भारी आक्रोश है। घटना के चलते सोमवार को कानपुर कचहरी में बार, लायर्स व यंग लायर्स एसोसिएशन के साथ सभी अधिवक्ताओं ने हत्या के विरोध में शोक दिवस मनाया। सभी न्यायिक कार्यों से विरत रहकर अधिवक्ताओं ने दिवंगत आत्मा की शांति के लिए दो मिनट का मौन रखा।

बार अध्यक्ष श्यामजी श्रीवास्तव ने कहा कि अधिवक्ताओं की सुरक्षा को लेकर प्रदेश सरकार को बेहतर कदम बढ़ाने चाहिए। उन्होंने इस तरह की घटनाओं पर पुलिस को कड़ी कार्रवाई करने की बात कही।

बार एसोसिएशन के महामंत्री कपिल दीप सचान ने कहा कि आए दिन प्रदेश में अधिवक्ताओं की हत्या हो रही है और सरकार हाथ पर हाथ रखे बैठी है। अगर अधिवक्ताओं के साथ इस तरह की घटनाएं होती रहेंगी तो मजबूर होकर अधिवक्ता सड़क पर आकर आंदोलन करने को मजबूर हो जाएंगे। उन्होंने कहा कि हाल ही में नवनिर्वाचित बार एसोएसशन की प्रदेश अध्यक्ष दरवेश यादव की दिन दहाड़े हत्या कर दी गयी थी।

कानपुर यंग लायर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष पंकज दीक्षित ने उत्तर प्रदेश शासन से मांग की कि प्रदेश में सरकार अधिवक्ताओं की सुरक्षा को लेकर कड़ा रुख अपनाए। उन्होंने इस तरह की अमानवीय घटनाओं से प्रदेश की शांति एवं न्याय व्यवस्था को बिगड़ने वाला बताया। इसके साथ ही यंग लायर्स के अध्यक्ष ने यह भी मांग की कि बार एसोसिएशन भी अधिवक्ताओं की सुरक्षा को लेकर कड़ी कार्रवाई करें। उन्होंने कहा कि कागजी खानापूर्ति से सुरक्षा व्यवस्था प्रभावित हुई है। एसोसिएशन ने अधिवक्ता संगठन पदाधिकारियों को सरकारी सुरक्षा मुहैया कराने की सरकार से मांग की। यहां पर नीरज प्रसाद दीक्षित, अंकित दीक्षित, अनूप त्रिपाठी, मनोज तिवारी, राजीव सैनी, रमाकांत यादव आदि मौजूद रहे।

हड़ताल के चलते वादकारियों को पड़ा लौटना

अधिवक्ताओं की हड़ताल के चलते कचहरी में आए वादकारियों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ा। वादकारियों ने कचहरी में चल रहे मुकदमों की सुनवाई नहीं होने पर अगली तारीख ली और बैरंग ही लौट गये। हड़ताल के चलते कचहरी में सन्नाटा पसारा रहा।


Share it
Top