औरैया हत्याकांड मामले में सपा नेता एवं उसके पुत्र समेत चार अभियुक्तों को उम्रकैद

औरैया हत्याकांड मामले में सपा नेता एवं उसके पुत्र समेत चार अभियुक्तों को उम्रकैद



औरैया। उत्तर प्रदेश के औरैया में 18 वर्ष पुराने चर्चित गोली एवं बम कांड के मामले में जिला एवं सत्र न्यायाधीश सुशील कुमार ने समाजवादी पार्टी (सपा) नेता एवं उनके पुत्र समेत चार अभियुक्तों को आजीवन करावास की सजा के साथ ढ़ाई-ढ़ाई लाख रुपये का अर्थदण्ड भी लगाया है।

अभियोजन पक्ष के अनुसार नेहरू इण्टर कालेज औरैया के तत्कालीन प्रबन्धक एवं कांग्रेस नेता स्वर्गीय राधाकृष्ण चतुर्वेदी ने रिपोर्ट लिखवाई थी कि 08 अक्टूबर 2001 की शाम वह अपने घर के दरवाजे पर कुछ लोगों के साथ बैठा था। उसी समय तिलक नगर औरैया निवासी ओमप्रकाश गुप्ता, उनका पुत्र रानू, तत्कालीन प्रधानाचार्य अवधनारायण त्रिपाठी, सपा नेता राजू कुशवाहा, उसका पुत्र अवधनारायन त्रिपाठी,श्रीकृष्ण यादव आदि लोगों ने वहां ताबड़तोड़ फायरिंग करते हुये हथगोले फेंके । इस घटना में वहां मौजूद कल्लू खाँ निवासी भैरौंपुर की घटना मृत्यु हो गयी और वादी सहित पांच लोग घायल हो गये थे। इस मामले में पांच नामजद समेत आठ लोगों के विरूद्ध मुकदमा सत्र न्यायालय में चला।

इस दौरान वादी राधाकृष्ण चतुर्वेदी और एक आरोपी अवधनारायण त्रिपाठी की मृत्यु हो गई। लम्बे समय तक चले इस मामले की अभियोजन की ओर से डीजीसी अभिषेक मिश्रा अैर शैलेष चतूर्वेदी ने पैरवी करते हुए उसे निर्णायक स्थिति में पहुँचाया। अभियोजन एवं वचाव पक्ष की दलीलें सुनने के बाद सत्र न्यायाधीष सुशील कुमार ने चार आरोपी मुख्तार खाँ निवासी ददेलनगर, जिलेदार निवासी वराहदेवी, पप्पू उर्फ जसवन्त निवासी नौगवां एवं सपा नेता राजू कुशवाहा निवासी नारायनपुर औरैया को दोषमुक्त कर बरी कर दिया लेकिन गोलीबारी में मारे गये कल्लू खाँ की हत्या के आरोप में सपा नेता एवं नेहरू इंटर कालेज के सेवानिवृत्त शक्षक ओमप्रकाश गुप्ता और उनके पुत्र रानू निवासी तिलकनगर औरैया, राजू त्रिपाठी निवासी दिल्ली दरवाजा एवं श्रीकृष्ण यादव निवासी जमालीपुर को आजीवन कारावास और करीब ढ़ाई लाख हजार प्रति आरोपी अर्थदण्ड से दण्डित किया।

आदेशानुसार अर्थदण्ड की धनराशि का 50 प्रतिषत मृतक कल्लू के वारिसों को शेष 30 प्रतिषत घायलों को बराबर बराबर दिया जायेगा। अर्थदण्ड की राशि राजस्व बकाया के भांति बसूलनी होगी।

गौरतलब है कि स्थानीय नेहरू इंटर कालेज की प्रबन्ध समिति का विवाद लम्बे समय तक चलता रहा, जिसे लेकर उक्त घटना को अरोपित पक्ष जोड़ रहा है सभी चारो सजा पाये लोगों को जिला करागार इटावा भेज दिया गया है।


Share it
Top