गोरखपुर- थम नहीं रहीं छेड़छाड़ की घटनाएं, स्कूल जाना हो गया है मुश्किल

गोरखपुर- थम नहीं रहीं छेड़छाड़ की घटनाएं, स्कूल जाना हो गया है मुश्किल


गोरखपुर। शहर और ग्रामीण इलाकों में बेटियों से होने वाली छेड़छाड़ की घटनाएं थमने का नाम नहीं ले रहीं हैं। हालात यह है कि कई लड़कियों ने स्कूल जाने से मना कर दिया है तो कई स्कूल जाना कब छोड़ दें कहना मुश्किल है। गोरखपुर जिले में होने वाली छेड़छाड़ की घटनाएं इसकी गवाह हैं। इधर, एंटी-रोमियो स्क्वॉयड की कार्रवाई से भी लोगों का विश्वास उठाने लगे है। वजह, मामला जब तक उच्चाधिकारियों के संज्ञान में नहीं आ रहा तब तक कोई सुनवाई नहीं हो रही है और न ही कार्रवाई ही शुरू हो पा रही है।

घटना नंबर - एक

चिलुआताल क्षेत्र में एक छात्रा शोहदों की छेड़छाड़ से परेशान थी। हालात ऐसी बनी कि उसने डर से स्कूल जाना छोड़ दिया था। काफी प्रयास आए पुलिस के हस्तक्षेप में बाद उसने स्कूल का रुख किया है लेकिन अभी वह डर से बाहर नहीं निकल पाई है।

घटना नंबर - दो

कुछ दिनों पूर्व गोरखपुर के पाश इलाके में स्थित काॅर्मल गर्ल्स काॅलेज के पास कक्षा छह की एक छात्रा के साथ हुई घटना काफी शर्मनाक रही। कुछ मनबढ़ युवकों ने लगातार तीन दिनों तक कक्षा-6 की एक छात्रा से छेड़छाड़ किया था। पीड़ित छात्रा ने कुछ दिनों तक इसे सहने के बाद अपनी मां से बताया और पुलिस शिकायत के बाद उसे थोड़ा सुकून मिला। शिकायत में बाद ही पुलिस भी चौकन्नी हुई थी।

घटना नंबर - तीन

पीपीगंज में भी छात्राओं से छेड़खानी की घटनाएं आम हैं। कुछ महीनों पूर्व छेड़छाड़ करने वाले कुछ किशोरों को एक युवक ने मना किया था। उससे बहस के बाद मनबढ़ों ने युवक की जमकर धुनाई की थी।

घटना नंबर - चार

सहजनवां थानाक्षेत्र के एक स्कूल के एक अध्यापक पर छेड़खानी का आरोप लगा था। आरोपी टीचर कई दिनों तक छात्रा से अभद्रता और छेड़छाड़ करता रहा। लड़की ने जब इस घटना को अपनी मां से बताया तब जाकर मामला खुला।

दो माह में छेड़छाड़ की बड़ी घटनाएं:

जुलाई-

- 20 जुलाई को खोराबार के बहरामपुर में खेत में काम कर रही किशोरियों से छेड़छाड़ का आरोप लगा।

- 27 जुलाई को गगहा क्षेत्र में शिक्षक पर छात्रा से गलत हरकत करने का आरोप लगा। खोराबार के बेलवार में बाजार से लौट रही किशोरी से छेड़खानी की घटना हुई।

- 28 जुलाई को उरुवा क्षेत्र में किशोरी का अपहरण कर सामूहिक दुष्कर्म घटना हुई। इसके अलावा कोतवाली क्षेत्र में किशोरी से छेड़छाड़ की घटना भी हुई। मनबढ़ों ने उसके भाई को पीटा भी।

- 30 जुलाई को खोराबार क्षेत्र में बाजार जा रही किशोरी से छेड़खानी। इसके अलावा सहजनवा में छात्रा के साथ स्कूल प्रबंधक पर छेड़खानी का आरोप लगा।

- 31 जुलाई को खजनी क्षेत्र के दो छात्राओं का अपहरण हुआ। आरोप है कि इनसे दुष्कर्म का प्रयास किया गया। एक अन्य घटना में खोराबार में युवती से छेड़छाड़। अगवा करने की कोशिश।

अगस्त

- 01 अगस्त को पिपराइच इलाके में एक शिक्षक पर छात्रा से दुष्कर्म का आरोप लगा।

- 03 अगस्त सहजनवां के एक स्कूल की बस में घुस कर छात्राओं से छेड़छाड़। तीन दिन तक स्कूल बन्द रहा।

- 09 अगस्त सहजनवां के एक स्कूल में शिक्षक पर छात्राओं संग छेड़छाड़ का आरोप लगा।

बोली युवतियां:

गोरखपुर विश्वविद्यालय की एमए की छात्रा संगीता का कहना है कि हालात ठीक नहीं है। शहर में कई बार दिन में ही सरेआम फब्तियां सुननी पड़ती हैं। कई बार तो छेड़छाड़ हो जाती है। मामला बढ़ाने की बजाय इसे सहकर आगे बढ़ाना ही मुनासिब समझना पड़ता है। पिपराइच से गोरखपुर आकर स्नातक की शिक्षा ग्रहण करने वाली छात्रा अनामिका का कहना है कि वे हर रोज पांच-छह सहेलियों के साथ गोरखपुर आती है। बावजूद इसके फब्तियां कसने वालों मनचलों से परेशान रहती हैं। जब अन्य साथी नहीं आती हैं तो अकेले आने की हिम्मत नहीं होती। बस में भी छेड़छाड़ होती है लेकिन हम कहां तक सुरक्षित रह सकेंगे, यही सोचकर लड़की होना ही समस्यायों का घर मानकर खुद को मना लेती हैं।


Share it
Top