क्राइम से बचाव के लिए सोच बदलने की जरुरत..अबला की बजाए आ बला बनें


गाजियाबाद । उत्तर प्रदेश के जांबाज सीनियर आई पी एस नवनीत सिकेरा की धर्म पत्नी पूजा सिकेरा ने गाजियाबाद के नेहरू नगर स्थित सरस्वती शिशु मंदिर स्कूल में मिशन शक्ति अभियान के तहत विद्यार्थियों को क्राइम से बचाव के टिप्स दिए। उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया पर हो रहे क्राइम पर हर तरह की सजा का प्रावधान है, लेकिन जागरुकता के अभाव मेंं इस पर अंकुश नहीं लग पा रहा है। आज भी लड़कियों को यह सिखाया जा रहा है कि सहो, लेकिन आवाज मत उठाओ जिसके कारण क्राइम को बढ़ावा मिल रहा है। उन्होंने लड़कियों से आह्वान किया कि वह अपने साथ व आस-पास हो रहे क्राइम को देख कर चुप न रहे और हर तरह से मामले को उजागर करने का प्रयास करें। जब तक लड़कियां अबला की बजाए आ बला नहीं बनेगी कुछ होने वाला नहीं है।

पूजा सिकेरा ने लड़कियों से अपील ही है कि वह फेसबुक प्रोफाइल पर अपनी फोटो नहीं लगाएं। वर्तमान समय में साइबर क्राइम के माध्यम से लड़कियों की गलत तरीके से अश्लील फोटो बनाकर उन्हें ब्लैकमेल करने के सबसे ज्यादा मामले आ रहे हैं। नोएडा में पिछले एक साल में ही आठ हजार ऐसे मामले सामने आए हैं।

उन्होंने लड़कों से भी कहीं क्राइम होने पर चुप नहीं रहने की बात पर बल दिया। एनसीआर में लड़कियों व महिलाओं से होने वाले क्राइम में 95 प्रतिशत लोग जानकार, रिश्तेदार होते हैं। बल्कि बाहर कामकाज करने व पढ़ने वाली लड़कियों से छेड़छाड़ के मामले में उनके सहकर्मी ही होते है। ऐसे में लड़कियों को हर समय सचेत रहने की आवश्यकता है। उन्होंने लड़कियों से क्राइम से बचाव के लिए आत्मरक्षा के गुण सीखने पर जोर दिया। खासकर बाहर निकलते हुए लड़कियां सेफ्टी किट लेकर चले, उसमें कोई छोटा चाकू, सेफ्टी पिन व छोटा,ब्लेड रखा होना चाहिए। उन्होंने कहा कि क्राइम से बचाव के लिए सोच बदलने की जरुरत है।

Share it
Top