गाजियाबाद इमारत हादसा: मृतकों की संख्या बढ़ी, मासूम का मिला शव

गाजियाबाद इमारत हादसा: मृतकों की संख्या बढ़ी, मासूम का मिला शव

गाजियाबाद। आकाशनगर में गिरी इमारत के मलबे से सोमवार की भोर में एक मासूम का शव मिलने से मृतकों की संख्या दो हो गई है। वहीं मलबे में अब भी आठ से 10 लोगों के दबे होने की आशंका है। एनडीआरएफ, फायर ब्रिगेड और पुलिस की टीम लगातार राहत और बचाव कार्य में लगी है।
थाना मसूरी क्षेत्र के आकाशनगर में रविवार को निर्माणाधीन चार मंजिला इमारत भरभरा कर गिर गई थी। रेस्क्यू ऑपरेशन के दौरान अब तक दो शव निकाले गए हैं, जिसमें सोमवार की भोर में करीब चार बजे मिला एक शव आठ वर्षीय एक मासूम का है। इनके अलावा मलबे में से अब तक छह और जख्मी हालत में लोगों को निकाला गया है, जिनको अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती कराया गया है।
एसपी सिटी आकाश तोमर के अनुसार, गाजियाबाद विकास प्राधिकरण (जीडीए) के एक इंजीनियर की तहरीर पर एफआईआर दर्ज कर अभी तक छह लोगों को इस मामले में हिरासत में लिया गया है। बिल्डर मुकेश सिंह, जमीन के मालिक और अन्य के खिलाफ एनएसए के तहत भी कार्रवाई की जाएगी।
बता दें कि दिल्ली से सटे ग्रेटर नोएडा के शाहबेरी में दो और गाजियाबाद में एक इमारत गिरने के बाद प्रशासन की नींद खुली है। अवैध निर्माण को लेकर सरकार ने कड़ा रुख अख्तितार किया है। अवैध तरीके से बनाई गई इमारतों को ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी ने सात दिन में गिराने का आदेश दिया है। सरकारी नोटिस अवैध तरीके से बनाई गई कई इमारतों पर चिपका दिया गया है। जबकि गाजियबाद की जो इमारत गिरी है, उसे भी जीडीए की उपाध्यक्ष रितु माहेश्वरी के अनुसार 12 जुलाई तक ध्वस्त कर दिया जाना था।
वह इमारत पूरी तरह से अवैध बनी थी। इसके बावजूद कार्रवाई नहीं हुई और बिल्डर इमारत का काम लगातार करवाता रहा। इससे तो यह बात साफ ह्रै कि अधिकारियों की इस अवैध निर्माण में मिलीभगत रही है। अब गला फंसने लगा है तो अपने-अपने बचाव में तरह-तरह की सफाई दी जा रही है।

Share it
Share it
Share it
Top