बुंदेलखंड में योगी सरकार कराएगी कृत्रिम बारिश

बुंदेलखंड में योगी सरकार कराएगी कृत्रिम बारिश

लखनऊ। सूखे की मार झेल रहे बुंदेलखण्ड में इस बार योगी सरकार कृत्रिम बारिश की तैयारी कर रही है। इसके लिए आईआईटी कानपुर को जिम्मेदारी दी गयी है। बुन्देलखण्ड पिछले कई सालों से सूखे की मार झेल रहा है। इस विपरीत स्थिति से निपटने के लिए सरकार ने बुन्देलखण्ड में कृत्रिम वर्षा कराने का निर्णय लिया था। कृत्रिम वर्षा कराने के लिए वैज्ञानिकों से सरकार ने राय ली है। वैज्ञानिक दल का दावा था कि वह बिना बादल के ही वर्षा करा सकता है।
इंडियन इंस्टीट्यूट आफ टेक्नोलॉजी के निदेशक प्रो.अभय करंदीकर ने इस योजना को अमली जामा पहनाने के लिए काम शुरू कर दिया है। अगर सब कुछ ठीक-ठाक रहा तो आने वाले समय में कृत्रिम बारिश से सूखे बुंदेलखंड में खुशहाली का रास्ता खुलने की उम्मीद की जा सकती है। उन्होंने बताया कि इसके लिए सबसे पहले डाटा बेस तैयार करने का काम किया जाएगा। इसमें आईआईटी के विशेषज्ञ सबसे पहले कई प्रमुख जिलों की वर्षा का डाटा तैयार करेंगे। इसमें देखा जाएगा कि क्षेत्र में पहले कितनी बारिश हुई। बारिश कम होने का क्या कारण हो सकता है, इस पर आंकलन किया जाएगा। इस योजना के प्रारंभिक चरण में बुंदेलखंड को पहले चिह्नित किया गया है।
इसके लिए संस्थान की एक टीम बनाई गई है। इस टीम में सिविल, मैकेनिकल, एयरोस्पेस, केमिकल, इनवायरमेंटल साइंस व अर्थ साइंस के विशेषज्ञों को शामिल किया गया है। इसके तहत क्षेत्रों की प्लानिंग कर जल्दी उसकी टेस्टिंग चालू करा दी जाएगी। बताया गया है कि संस्थान की कई फैकल्टी विदेश में आर्टिफिशियल रेन पर रिसर्च कर चुकी हैं। इस तकनीक से सूखाग्रस्त क्षेत्रों को काफी लाभ मिलेगा।

Share it
Top