बाढ़ राहत कार्य में लापरवाही के चलते हटाए गए बदायूं के मुख्य चिकित्सा अधिकारी

बाढ़ राहत कार्य में लापरवाही के चलते हटाए गए बदायूं के मुख्य चिकित्सा अधिकारी


लखनऊ। उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने बाढ़ राहत कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में बदायूं के मुख्य चिकित्सा अधिकारी को हटा दिया है। मंत्री ने प्रदेश के अन्य जिलों के स्वास्थ्य अधिकारियों को भी चेतावनी दी है कि बाढ़ पीड़ितों को संक्रामक रोग से बचाने के कार्यों में किसी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जायेगी।

स्वास्थ्य मंत्री गुरुवार को राजधानी स्थित योजना भवन में वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से प्रदेश के मुख्य चिकित्साधिकारियों एवं मुख्य चिकित्सा अधीक्षकों को आवश्यक निर्देश दे रहे थे। इस दौरान बाढ़ प्रभावित जिलों में स्वास्थ्य सेवाओं की समीक्षा करते हुए स्वास्थ्य मंत्री ने बदायूं के मुख्य चिकित्सा अधिकारी को लापरवाही बरतने का दोषी पाया। इसके बाद उन्होंने मुख्य चिकित्साधिकारी को उदासीनता एवं लापरवाही बरतने के आरोप में तत्काल हटाते हुये उनके विरूद्ध अनुशासनात्मक कार्रवाई के निर्देश दिये।

इस अवसर पर स्वास्थ्य मंत्री ने समस्त मुख्य चिकित्साधिकारियों एवं मुख्य चिकित्सा अधीक्षकों को निर्देशित करते हुए कहा कि वे समाचारपत्रों में स्वास्थ्य संबंधी प्रकाशित खबरों का संज्ञान लेते हुए जिलाधिकारी से समन्वय स्थापित कर मीडिया प्रतिनिधियों को प्रेसवार्ता के माध्यम से वास्तविक स्थिति से अवश्य अवगत करायें। साथ ही मीडिया प्रतिनिधियों के साथ निरन्तर सम्पर्क में रहें और उन्हें स्वास्थ्य विभाग द्वारा किये जा रहे कार्यों से अवगत कराते रहें।

मंत्री ने बाढ़ प्रभावित सभी जिलों के मुख्य चिकित्साधिकारियों और मुख्य चिकित्सा अधीक्षकों से प्रभावित क्षेत्रों में शिविर लगाकर व्यापक स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने को कहा। बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में संक्रामक रोगों से बचाव के लिए एंटी लार्वा दवा के छिड़काव व जरूरी दवाओं की उपलब्धता बनाए रखने की भी हिदायत दी गई।

इस अवसर पर स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्म दिवस 17 सितंबर से दीनदयाल उपाध्याय के जन्म दिवस 25 सितंबर तक स्वास्थ्य सप्ताह मनाया जायेगा। इस दौरान प्रदेश के सभी मंडलों में आयुष्मान योजना के दो हजार से अधिक शिविर लगाकर लाभार्थियों को पात्रता के कार्ड वितरित किए जाएंगे। सिंह ने बताया कि आयुष्मान योजना का पायलट रन आठ सितंबर को लखनऊ मंडल के अलावा अन्य सभी मंडलों में शुरू किया जाएगा। योजना के लिए अधिकारियों को शुक्रवार तक सभी जरूरी उपकरण खरीद कर स्थापित करने के निर्देश दिए गए हैं।

वीडियों कांफ्रेंसिंग के दौरान प्रमुख सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य प्रशान्त त्रिवेदी, सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य वी. हेकाली झिमोमी, मिशन निदेशक, पंकज कुमार, महानिदेशक चिकित्सा एवं स्वास्थ्य पद्माकर सिंह भी उपस्थित थे।


Share it
Share it
Share it
Top