पर्दानशीं महिलाओं को पहचान के बाद ही डलवाया गया वोट

पर्दानशीं महिलाओं को पहचान के बाद ही डलवाया गया वोट

बागपत। उत्तर प्रदेश के बागपत में हो रहे निकाय चुनाव के तीसरे और आखिरी चरण में आखिरकार पर्दानशीं महिलाओं की पहचान सुनिश्चित होने लगी है। बागपत में कई बूथों पर बुर्के में वोट डालने आई महिलाओं की पहचान उनके वोटर आई कार्ड और चेहरे से मिलान करके किया गया और उसके बाद ही उन्हें वोटिंग की इजाजत दी गई। बागपत के बड़ौत में आज कई बूथों पर यह देखने को मिला कि महिला सुरक्षाकर्मी बुर्के में आई महिलाओं की पहचान उनके आई कार्ड से की गयी और साथ-साथ बुर्का हटाकर चेहरे से आई कार्ड का मिलान
भी किया गया। बागपत के वीर स्मारक इंटर कॉलेज में मुस्लिम मतदाताओं की भीड़ उमडी। यहां जो भी मुस्लिम महिलाएं बुर्के में आ रही थी उनकी चैकिंग की जा रही थी और उसके बाद ही उन्हें पोलिंग बूथ में जाने की इजाजत दी जा रही है. पोलिंग बूथ पर तैनात महिला पुलिसकर्मी पूरी मुस्तैदी से ये देखने की की कोशिश कर रही थी। कहीं कोई बुर्कानशीं ऐसी तो नहीं है कि जो दोबारा वोट डालने जा रही हो। इसी के साथ उनके पहचानपत्र से भी उनकी पहचान की जा रही थी, हालांकि कुछ महिला मतदाता इसका विरोध भी किया लेकिन, बिना चैकिंग के कोई बुर्खानशीं मतदान केंद्र पर दाखिल नहीं हो रही है। उधर, डीएम भवानी सिंह खंगारौत का कहना है कि केवल एक विशेष वर्ग की नही बल्कि सभी मतदाताओं की पहचान सुनिश्चित करने के बाद ही मतदान कराया गया।

Share it
Top