खनन माफियाओं ने ग्रामीणों पर फायरिंग करके दहशत फैलाई

खनन माफियाओं ने ग्रामीणों पर फायरिंग करके दहशत फैलाई

बागपत। बागपत में खनन माफियाओं का खेल रूकने का नाम नहीं ले रहा है। काठा में नाव हादसे का मामला हो या छपरौली में खनन के कारण ग्रामीणों में संघर्ष का, आये दिन अवैध खनन के कारण हादसे हो रहे हैं। इसके बाद भी जिला प्रशासन सबक लेना नहीं चाहता। बुधवार को एक बार फिर खनन माफियाओं ने ग्रामीणों पर फायरिंग करके दहशत फैला दी। इसके बाद मौके पर पहुंचे आलाधिकारी खनन माफियाओं को क्लीन चिट देकर अपना पल्ला झाड़ रहे हैं।
मामला बागपत जनपद के खेकडा तहसील क्षेत्र के सांकरोद व मवीकला में अवैध खनन का है जहां खनन माफिया मानक को ताक पर रखकर मिट्टी का खनन कर रहे हैं। किसानों का आरोप है कि 10 से 15 फिट गहरी मिट्टी उठायी जा रही है जिससे गांव में बाढ़ का खतरा बढ़ गया है। इसकी शिकायत पहले भी की जा चुकी है लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। बुधवार को जब किसानों ने अवैध खनन का विरोध किया तो माफियों ने उन पर फायरिंग कर दी जिसके बाद किसानों ने भागकर अपनी जान बचाई और इसकी सूचना जिलाधिकारी को दी।
सूचना के बाद मौके पर खेकडा एसडीएम अजय कुमार और एसओ मौके पर पहुंचे और काम बंद करा दिया। किसानों का आरोप है कि यह खनन खेकडा एसडीएम की मिली भगत से कराया जा रहा है जिसमें सभी मानक ताक पर रख दिये गये हैं। आरोप है कि खनन माफियाओं ने एसडीएम के सामने ही किसानों को जान से मारने तक की धमकी दी लेकिन एसडीएम ने माफियाओं को कुछ नहीं कहा बल्कि किसानों को ही लताड़ लगाई। इससे गुस्साए ग्रामीणों ने इसकी शिकायत मंडलआयुक्त से करने को कहा है। किसानों का कहना है कि किया जा रहा खनन मानक के अनुरूप नहीं था। इस मामले पर बागपत डीएम भवानी सिंह ने मामले की जांच के आदेश दे दिये हैं।

Share it
Top