दहेज हत्या में पति समेत तीन को आठ साल की सजा

दहेज हत्या में पति समेत तीन को आठ साल की सजा


बागपत। दहेज की मांग पूरी न होने पर ससुरालियों द्वारा विवाहिता की हत्या के मामले में अदालत ने तीन लोगों को आठ-आठ साल की सजा सुनाई है। इसके अलावा साढ़े चार हजार रुपये अर्थदंड भी लगाया गया। विवाहिता की हत्या छह वर्ष पूर्व थाना दोघट के पलडी गांव निवासी इख्लाक ने अपने परिजनों के साथ मिलकर की थी जिसका शव खेत से मिला था।

जिला शासकीय अधिवक्ता सुनील पंवार ने बताया कि जनपद शामली के गांव लिलौन निवासी आरिफ पुत्र साकिर ने 03 जुलाई 2012 को दोघट थाने पर मुकदमा दर्ज कराते हुए बताया था कि उसकी बहन इमराना की शादी दो वर्ष पूर्व थाना दोघट क्षेत्रा के गांव पलडी निवासी इख्लाक पुत्र अलीहसन के साथ हुई थी। शादी के बाद से ही ससुराल वाले विवाहिता से दो लाख रुपये की मांग कर रहे थे। मांग पूरी न होने पर ससुराल वालों ने महिला की हत्या कर उसका शव जंगल में एक गड्ढ़े में दबा दिया था। इस मामले में मृतक के भाई आरिफ ने पति समेत पांच लोगों के खिलाफ तहरीर देकर मुकदमा दर्ज कराया था। यह मामला जिला एवं सत्र न्यायाधीश की अदालत में चला। अदालत में आधा दर्जन गवाह पेश हुए। साक्ष्यों एवं गवाहों के आधर पर अदालत ने इस मामले में हत्या का दोषी मानते हुए मृतक महिला के पति इखलाक, ससुर अलीहसन व सास जैनुल को आठ-आठ साल कारावास की सजा सुनाई तथा अर्थदंड भी लगाया। अर्थदंड जमा न करने पर दो माह का अतिरिक्त कारावास की सजा बढ़ा दी जाएगी। इस मामले में ननद शहनाज को दोषमुक्त किया गया तथा एक अन्य आरोपी मंजूर की विचारण के दौरान मौत हो गई थी।

Share it
Top