बागपत: समर्थन मूल्य बढ़ने से बागपत के किसानों में खुशी

बागपत: समर्थन मूल्य बढ़ने से बागपत के किसानों में खुशी



बागपत। केंद्र सरकार द्वारा किसानोें के लिए खरीफ का न्यूनतम समर्थन मूल्य बढ़ाकर सरकार ने किसानों फायदा पहुंचाने का काम किया है। किसानों का कहना है कि इससे उनको लाभ होगा बाजार में भी प्रतिस्पर्धा बढ़ेगी और किसान अपनी फसलों का सही दाम ले पाएंगे। इसमें सबसे ज्यादा फायदा धान के किसानों को होने वाला है। धान की कीमत में 200 रुपये का इजाफा किया गया है। जो पिछले वर्ष की तुलना में कही ज्यादा है। केेंद्र सरकार के इस फैसले से किसानों को लाभ की उम्मीद जगी है।
दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र स्थित जनपद बागपत में किसान आज खुशियां बना रहा है। गन्ना और धान की खेती पर निर्भर यह जिला केंद्र सरकार के न्यूनतम समर्थन मूल्य को लेकर उत्साहित है और सरकार पर भरोसा भी जताया है। लेकिन विरोधी दलों और किसानों की न्यूनतम समर्थन मूल्य को लेकर अपनी राय है। भारतीय किसान यूनियन नेता प्रताप गुर्जर इसे किसानों के साथ धोखा बताते हैं |
वे कहते हैं कि सरकार ने वादा किया था कि डेढ़ गुना दाम दिलाया जाएगा जो पूरा नहीं किया है। बड़ागांव के किसान आदिप्रकाश का कहना है कि सरकार अगर किसानों की फसलों के दाम बढ़ा रही है तो इससे फायदा किसानों को ही नहीं सरकार को होगा| किसान समृद्ध होगा और देश में खाद्यान बढ़ेगा। केंद्रीय मंत्री सत्यपाल सिंह ने इसे किसान हित का फैसला बताते हुए कहते हैं कि किसान को अपनी फसल का दाम सही मिलेगा तो देश का किसान खुशहाल होगा और उसे किसी बैंक से कर्ज की आवश्यकता नहीं होगी। मुबारिकपुर गांव के किसान रमेश प्रधान का कहना है कि समर्थन मूल्य किसानों के एक अच्छा फैसला है। जनपद के पांच हजार हैक्टेयर भूमि पर धान की फसल होती है। 200 रुपये बढ़ाए जाने से धान किसानों को सीधा लाभ पहुंचेगा।

Share it
Top