इलाहाबाद में लगातार पांचवे दिन भी गंगा और यमुना के जलस्तर में बढोत्तरी

इलाहाबाद में लगातार पांचवे दिन भी गंगा और यमुना के जलस्तर में बढोत्तरी


इलाहाबाद। मध्य प्रदेश में बरसात के चलते केन नदी का पानी चंबल नदी से यमुना में आने के कारण शुक्रवार को गंगा और यमुना के जलस्तर में 15 और 26 सेंटीमीटर की वृद्धि दर्ज की गयी है।

गंगा और यमुना का जलस्तर शुक्रवार को पांचवे दिन भी बढ़ रहा है। दोनो नदियों का जलस्तर इसी क्रम में बढता रहा तो ड़ेढ़ से दो मीटर पानी बढ़ते ही बंधवा पर लेटे हनुमान जी को गंगा अपने जल से स्नान करायेंगी।

लगातार दोनों नदियों के बढ़ रहे जलस्तर से निचले क्षेत्रों में रहने वाले लोगों में डर पैदा हो गया है। प्रशासन ने निचले क्षेत्रों में अलर्ट जारी कर दिया है। माताटीला बांध से बेतवा नदी में पानी छोडे जाने, केन नदी तथा पहाडी और दूसरी अन्य नदियों के पानी में उफान होने के कारण यमुना के जलस्तर में वृद्धि दर्ज की गयी है। उन्होंने बताया कि यमुना के पानी में बढ़ोत्तरी होने के साथ ही गंगा के जलस्तर में बढ़ोत्तरी होती है।

बाढ़ नियंत्रण कक्ष द्वारा प्राप्त आंकड़ों के अनुसार पिछले 24 घंटे के दौरान गंगा और यमुना के जलस्तर में लगातार वृद्धि जारी है। गंगा के जलस्तर में 15 जबकि यमुना में 26 सेंटीमीटर की वृद्धि दर्ज की गयी है। गंगा और यमुना का जल स्तर पिछले सोमवार से लगातार बढ़ रहा है। सोमवार से शुक्रवार के बीच गंगा का जलस्तर फाफामऊ में 17, छतनाग में 52 और नैनी (यमुना) में 66 सेंटीमीटर की वृद्धी दर्ज किया गया है। सोमवार को फाफामऊ में सुबह आठ बजे गंगा का जलस्तर 79.200, छतनाग 76.140 और यमुना (नैनी) में 76.600 मीटर दर्ज किया गया था।

उन्होंने बताया कि शुक्रवार की सुबह आठ बजे फाफामऊ का जलस्तर 79.37 तथा छतनाग 76.66 एवं नैनी (यमुना) का जलस्तर 77.26 मीटर दर्ज किया गया है जबकि गुरूवार को फाफामऊ में सुबह आठ बजे गंगा का जलस्तर 79.33, छतनाग 76.51 और यमुना (नैनी) में 77.00 मीटर दर्ज किया गया था।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि नदियों के किनारे बनाई गयी बाढ़ चौकियों पर तैनात कर्मचारियों को भी सतर्कता बनाये रखने के लिए निर्देश दिये गये है।


Share it
Top