प्रयागराज: एसटीएफ के हत्थे चढ़ा पचास हजार का इनामी

प्रयागराज: एसटीएफ के हत्थे चढ़ा पचास हजार का इनामी


प्रयागराज। पुलिस अभिरक्षा से फरार हो चुके दो अपराधियों में से एक पचास हजार के इनामी अपराधी को बुधवार दोपहर एसटीएफ लखनऊ की टीम ने गिरफ्तार किया। इस सम्बन्ध में एसटीएफ की ओर से नैनी कोतवाली में मुकदमा दर्ज कराया गया है।

गिरफ्तार अपराधी प्रिन्स अग्रवाल मुलतः उत्तराखण्ड का रहने वाला है। वह इस समय आगरा के ताजगंज स्थित बसई केला सेन्ट पब्लिक स्कूल के पास रह रहा था। उसके पास से एक मोबाइल, आधार कार्ड, 210 रुपये बरामद हुआ है।

एसटीएफ के पुलिस उपाधीक्षक पीके मिश्रा ने बताया कि पकड़े अपराधी के खिलाफ 12 से अधिक मुकदमे दर्ज हैं। यह सजायाफ्ता कैदी है। यह केन्द्रीय कारागार नैनी से 7 अक्टूबर 2018 को अभिरक्षा से फरार हो गया था, जिसके बाद से इसकी तलाश पुलिस कर रही थी। पूछताछ के दौरान आरोपित प्रिन्स अग्रवाल ने एसटीएफ को बताया कि पहले अपना अलग-अलग नाम बता कर अपने आप को छिपाने का प्रयास करता रहा परन्तु उसके दाहिने हाथ पर लिखे हुए प्रिन्स के आधार पर जब सख्ती से पूछताछ की गयी तो उसने अपना असली नाम बताया। उसके माता पिता एंव मूल निवास के बारे में पूछा गया तो वह अपने माता पिता के बारे में कोई जानकारी नही दे सका और बताया कि उसे काफी छोटी उम्र से ही अनिल अग्रवाल नामक व्यक्ति निवासी बसईकला थाना ताजगंज जनपद आगरा ने पाल-पोस कर बड़ा किया और अब वह भी इस दुनिया में नहीं है।

इण्टर तक की शिक्षा प्राप्त करने के बाद तथा माता-पिता के न होने के कारण धीरे-धीरे छोटी मोटी चोरी करने लगा और इस दौरान मोनू निवासी आगरा के सम्पर्क में आया और उसके साथ जयपुर राजस्थान तथा आगरा शहर में कई चोरियां की और पकड़े जाने पर लगभग 28-29 महीने आगरा जेल में रहा।

बाद में बाल संरक्षणग गृह गाजीपुर में रहा। गाजीपुर से आगरा आते-जाते हुए दो बार पुलिस अभिरक्षा से फरार हो गया था। उसे चोरी के कई मामलों में सजा हो गयी, जिसके उपरान्त उसे नैनी जेल प्रयागराज में 12 सितम्बर 2018 को दाखिल किया गया। जहां से गौरव उर्फ अंशु मिलने के लिए अन्दर आये तो पत्नी के हाथ पर लगी हुई मोहर पर हल्का सा पानी डालकर उस मोहर की छाप अपने हाथ पर ले ली और वही दिखाकर जेल से बाहर गया। नैनी जेल से फरार होने के बाद माह अप्रैल 2019 में जनपद आगरा के नाहरगढ़ के एक मकान में ताला तोड़ कर सोने व चांदी के जेवरात चोरी कर लिये थे, जिसे दिल्ली में बेंचा था।

उल्लेखनीय है कि इसकी फरारी के सम्बन्ध में कई पुलिस कर्मी तथा नैनी कारागार के कर्मचारी निलम्बित कर दिये गये थे। फरार अभियुक्त पर जनपद प्रयागराज पुलिस ने पचास हजार का इनाम घोषित किया था।


Share it
Top