चित्रकूट: पुलिस मुठभेड़ में पकड़ा गया दस्यु बबली कोल गैंग का डकैत संजय कोल

चित्रकूट: पुलिस मुठभेड़ में पकड़ा गया दस्यु बबली कोल गैंग का डकैत संजय कोल


एक लाख का ईनामी था संजय कोल, असलहा के साथ मिले जिंदा कारतूस

चित्रकूट। उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश के सीमावर्ती इलाकों में आतंक का पर्याय रहे सात लाख के ईनामी दुर्दांत डकैत बबली कोल के खात्मे के बाद पुलिस की जंगल में सक्रियता बढ़ गयी है। जिसके चलते मुठभेड़ में देर रात को चित्रकूट पुलिस ने मारकुंडी थाना क्षेत्र के गुरसहाय जंगल से ने बबली गैंग के एक लाख के ईनामी डकैत संजय कोल को धर दबोचा। पुलिस ने उसके पास से असलहा के साथ कारतूस भी बरामद की है। जिसकी पुष्टि मंगलवार को पुलिस अधीक्षक मनोज झा ने भी की।

विंध्य पर्वत श्रृंखला के मध्य स्थित चित्रकूट जिले का पाठा क्षेत्र पिछले चार दशकों से ददुवा, ठोकिया, रागिया, बलखडिया और बबली कोल गैंग के आतंक का शिकार रहा है। उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश के बीच स्थित पाठा के बीहडों की भौगोलिक परिस्थितियां हमेशा से डकैतों के अनुकूल रहीं है। दस्यु बलखडिया के मारे जाने के बाद डकैत बबली कोल ने गैंग की कमान संभाली और सात लाख का ईनामी हो गया। हाल ही में बबली अपने साथी लवलेश के साथ मारा गया। सात लाख के कुख्यात ईनामी डकैत बबली कोल और दो लाख के ईनामी डकैत लवलेश कोल के मारे जाने के बाद से चित्रकूट पुलिस बबली कोल गैंग के शेष बचे डकैतों की धरपकड़ में जुटी हुई है। 19 सितम्बर को एक लाख के ईनामी डकैत सोहन कोल गिरफ्तार हुआ था। इसके बाद देर रात को एक लाख के ईनामी डकैत संजय कोल को अवैध असलहा और जिंदा कारतूसों के साथ गिरफ्तार करने में पुलिस को बड़ी सफलता हासिल हुई।

पुलिस अधीक्षक मनोज कुमार झा ने मंगलवार को आयोजित पत्रकार वार्ता में बताया कि बबली कोल और लवलेश कोल के मारे जाने के बाद पुलिस टीम गैंग के बचे सदस्यों की धरपकड़ में तेजी से जुटी हुई है। बताया कि दस्यु सरगना के मारे जाने के आठवें दिन मारकुंडी थाना क्षेत्र के गुरसराय जंगल में गैंग का हार्डकोर मेम्बर एक लाख के ईनामी डकैत संजय कोल भी पुलिस के हत्थे चढ़ गया। थाना पुलिस और एंटी डकैती टीम ने मुठभेड़ के बाद डाकू संजय कोल को एक बंदूक नौ जिंदा कारतूस व 11 हजार 200 रुपये के साथ गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है।

सोशल मीडिया से मिली मदद

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि दस्यु संजय कोल सोशल मीडिया के लाइक और टिकटॉक में एक्टिव रहता था। डकैत संजय कोल तक पहुंचने में सोशल मीडिया से काफी मदद मिली है। एसपी ने बताया कि दस्यु संजय कोल के गिरफ्तार होने के बाद अब पूरी तरह से चित्रकूट जिला पूरी तरह से दस्यु समस्या से मुक्त हो गया है। उन्होंने बताया कि पकडे़ गये एक लाख के ईनामी डकैत संजय कोल पर आधा दर्जन से अधिक अपराधिक मुकदमें दर्ज है। डकैत को पकड़ने वाली टीम में एंटी डकैती टीम के प्रभारी केशव प्रसाद दुबे, डीआईजी एंटी डकैती टीम के प्रभारी शिव प्रसाद, एसआई संदीप पटेल, रोहित तिवारी, प्रदीप दुबे समेत एक दर्जन से अधिक कर्मी शामिल रहें।


Share it
Top