उत्तर प्रदेश विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित का चन्दौली के डीएम के खिलाफ कड़ा रुख

उत्तर प्रदेश विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित का चन्दौली के डीएम के खिलाफ कड़ा रुख

लखनऊ। उत्तर प्रदेश विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित ने चन्दौली के जिलाधिकारी के खिलाफ आज कड़ा रुख अपनाते हुए राज्य सरकार से अधिकारी को कारण बताओ नोटिस जारी करने का निर्देश दिया है।
शून्य प्रहर के दौरान समाजवादी पार्टी (सपा) के प्रभु नारायण ने एक सूचना के जरिये कहा कि कई बार निर्देश दिये जाने के बावजूद चन्दौली के जिलाधिकारी ने विधानमण्डल सत्र के दौरान ग्राम्य विकास विभाग की बैठक 12 जुलाई को करा दी। सरकार का स्पष्ट आदेश है कि विधानमण्डल या सत्र के दौरान इस तरह की बैठकें न करायी जायें, क्योंकि ऐसी समितियों में सांसद, विधायक भी सदस्य होते हैं। जिलाधिकारी ने आदेश की अवहेलना की और बैठक करा दी। संसदीय कार्यमंत्री ने कहा कि सरकार के निर्देशों को एक बार फिर से सभी जिलाधिकारियों को भेज दिया जायेगा। उन्हें स्पष्ट आदेश दिया जायेगा कि सत्र के दौरान इस तरह की बैठकें न हों। आदेश के बावजूद बैठकों का होना निर्देशों का उल्लंघन है और सरकार इसे गम्भीरता से लेगी। कई और सदस्यों ने इस तरह के मामले उठाने की कोशिश की, लेकिन अध्यक्ष ने कहा कि इसे सरकार ने संज्ञान ले लिया है, तो अब बोलने की आवश्यकता खत्म हो गई है। सपा और बसपा सदस्यों ने कानून-व्यवस्था का मामलो भी उठाया। लखनऊ के पॉश इलाके गोमतीनगर में बिजली विभाग के इंजीनियर गिरीश पाण्डेय के घर पड़ी डकैती का भी जिक्र किया गया। श्री खन्ना ने कहा कि मुख्यमंत्री ने स्पष्ट आदेश दे दिया है कि कानून-व्यवस्था में हीला-हवाली बर्दाश्त नहीं की जायेगी। जो पुलिस कर्मी लापरवाही बरतेगा उसके खिलाफ कार्रवाई की जायेगी।

Share it
Share it
Share it
Top