मिड-डे-मील में बड़ा घोटाला उजागर...बीएसए दफ्तर में तैनात कर्मी 21 लाख की रकम के साथ गिरफ्तार

मिड-डे-मील में बड़ा घोटाला उजागर...बीएसए दफ्तर में तैनात कर्मी 21 लाख की रकम के साथ गिरफ्तार

बाराबंकी। उत्तर प्रदेश के बाराबंकी में बेसिक शिक्षा अधिकारी के दफ्तर में तैनात बड़े बाबू को पुलिस ने 21 लाख की रकम के साथ गिरफ्तार कर लिया। पुलिस के अनुसार आजाद नगर स्थित बाबू के घर से मिली ये रकम मिड-डे-मील घोटाले की है। इस घोटाले में पांच लोगों की गिरफ्तारी पहले ही हो चुकी है। पुलिस सूत्रों ने शनिवार को बताया कि विकास भवन के निकट बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय में अखिलेश शुक्ला बड़े बाबू के पद पर तैनात हैं। मूल रूप से गाजीपुर रामसनेहीघाट के निवासी अखिलेश शहर के मौहल्ला आजाद नगर में रहते हैं। कोतवाली एवं क्राइम ब्रांच की टीम ने उन्हें कल दफ्तर से हिरासत में ले लिया था। क्राइम ब्रांच पहले से ही मिड डे मील घोटाले की जांच कर रही थी। इसी मामले में जांच के दौरान अखिलेश का नाम सामने आया तो पुलिस ने ताना बाना बुनना शुरू कर दिया। पर्याप्त सबूत मिलने के बाद उसे गिरफ्तार कर लिया गया। बीएसए ऑफिस से उसे उठाने के बाद पुलिस ने पूछताछ की और उसके घर से 2० लाख 98 हजार 67० रुपये बरामद कर लिए। पुलिस मिड डे मील घोटाले में राजीव शर्मा, रहीमुद्दीन, साधना, रोज सिद्दीकी व रघुराज को पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है। ज्ञातव्य है कि जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी वीपी सिंह ने 29 दिसम्बर 2०18 को नगर कोतवाली में घोटाले का मुकदमा दर्ज कराया था। मुकदमे के मुताबिक सरकार द्वारा दी गई 4 करोड़ 48 लाख की रकम स्कूलों के मिड डे मील खाते में जानी थी। इसके बावजूद एमडीएम के समन्वयक राजीव शर्मा ने अपने सहयोगी रहीमुद्दीन आदि के साथ मिलकर पूरा गिरोह बनाया और इस रकम को निजी खातों में भेजना शुरू कर दिया। एमडीएम खातों की पासबुक अपडेट कराकर शासन से कोषागार भेजी गईं। रकम से मिलान करने पर हेराफेरी पकड़ी गई थी।

Share it
Top