देवबंद : सतगुरु नानक प्रगटीया। मिटी धुंध जग चानन होआ।।


हर्षोल्लास से मनाया गुरु नानक देव जी का 550 वां प्रकाश पर्व

देवबंद (गौरव सिंघल)। साहिब श्री गुरु नानक देव जी महाराज के 550 वां प्रकाश पर्व देवबंद नगर में बडे हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। गुरुद्वारा श्री गुरु नानक सभा में आयोजित कार्यक्रम में गुरु नानक देव जी के जीवन पर प्रकाश डालते हुए पंडित पी आर एस वशिष्ठ ने कहा कि गुरुनानक देव जी का जन्म सन 1469 ई. को राय भोहे की तलवंडी (पाकिस्तान) में पिता मेहता कालू व माता तृप्ता जी के घर हुआ था।

गुरु जी ने सम्पूर्ण मानवता को जात पात, ऊँच नीच, छुआ छूत से रहित जीवन जीने का सन्देश दिया। पूर्व प्रधानाचार्य सरदार भगवान सिंह ने कहा गुरुनानक देव जी ने अवतार धारण कर वहमों भरमो व उदासीनता में जीवन जी रही मानवता को प्रेम, भाईचारे वह निर्भीकता से जीवन जीने का मार्ग दिखाया। गुरजोत सिंह सेठी ने कहा कि गुरु नानक देव जी ने भूखे साधुओं को भोजन कराकर लंगर कि जो प्रथा शुरू की उसी के फल स्वरुप आज दुनिया के गुरुद्वारों में रोजाना लाखों लोग लंगर छकते हैं। इससे पूर्व पिछले 2 दिनों से चल रहे श्री अखंड पाठ साहिब के पाठ की समाप्ति के पश्चात हजूरी रागी भाई नितिन सिंह ,अमनदीप सिंह ,चंद्रदीप सिंह, जितेश बत्रा, बलदीप सिंह, चन्नी बेदी बलजिंदर सिंह आदि ने गुरुवाणी का गायन कर संतो को निहाल किया गुरुद्वारा कमेटी की ओर से श्री अखंड पाठ साहिब की सेवा लेने वाले सरदार अरविंदर सिंह कपूर वह गुरुद्वारा साहिब में माथा टेकने पहुंचे कोतवाली के एस एस आई ज्ञानेंद्र सिरोही, एस आई धीरेंद्र सिंह, एस आई करुणा चौधरी व एस आई सविता चौधरी को सिरोपा देकर समान्नित किया। संचालन गुरजोत सिंह सेठी ने किया। कार्यक्रम में सेठ कुलभूषण छाबड़ा, इंद्रपाल सिंह सेठी, श्याम लाल भारती, दिलबाग सिंह, हरीश गिरधर,सिमर लाल सचदेवा, वेद प्रकाश अरोड़ा, राजन छाबड़ा, सचिन छाबड़ा, सन्नी-मन्नी सेठी, बनारसी दास, हैप्पी रतड़ा, रवि होरा, जितेश बतरा, मोहित मलहोत्रा, अनमोल अजमानी, बिट्टू सिंघ, प्रिंस कपूर, जसवन्त सिंह, आशीष सिंह, बिट्टू सिंह कपूर आदि मौजूद थे।

Share it
Top