पुत्र का शव लेने जा रहे पिता की दुर्घटना में दर्दनाक मौत...हादसे में एक अन्य भी मरा, तीन लोगों की हालत गम्भीर

पुत्र का शव लेने जा रहे पिता की दुर्घटना में दर्दनाक मौत...हादसे में एक अन्य भी मरा, तीन लोगों की हालत गम्भीर

कानपुर/बांदा। उत्तर प्रदेश में बांदा जिले के चिल्ला क्षेत्र में बेटे का शव कानपुर लेने जा रहे पिता समेत दो लोगों की सड़क हादसे में मृत्यु हो गई, जबकि तीन अन्य गंभीर रूप से घायल हो गये।

पुलिस ने मंगलवार को बताया कि बाँदा नगर की छोटी बाजार मौहल्ला निवासी व्यवसाई फूलचन्द्र गुप्ता के युवा पुत्र अनमोल (25) की मृत्यु कानपुर में एक हादसे में हो गई थी। हादसे की खबर पाकर फूलचंद (55) अपने पड़ोसी रवि (32) और तीन अन्य के साथ कार से कानपुर जा रहे थे कि सोमवार देर रात पलरा गांव के घूरा मोड़ पर अन्ना मवेशी को बचाने के प्रयास में कार सड़क किनारे खड़े एक ट्रक से टकरा गई। पुलिस ने हादसे में घायलों को जिला अस्पताल भेजा, जहां उपचार के दौरान फूलचन्द्र और रवि की मृत्यु हो गई। जिला अस्पताल में भर्ती चालक समेत तीन की हालत गंभीर बनी हुई है। गौरतलब है कि कानपुर में बिठूर के मंधना क्षेत्र में अपनी बहन पूजा के घर पर रहकर पढाई कर रहे अनमोल की सोमवार को सड़क हादसे में मृत्यु हो गयी थी। भाई की मृत्यु से बदहवास पूजा और उसकी बहन आरती ने घटना की सूचना बांदा में पिता को दी। बेटे की मौत की खबर सुन पिता फूलचंद कानपुर के लिए निकले, लेकिन बांदा से कुछ दूरी पर ही आए थे कि तभी वे भी हादसे का शिकार हो गये। भाई की मौत से गमजदा बहनों को पिता की मौत की जानकारी मिली तो उनकी हालत बिगड़ गई, जिन्हें आनन-फानन में पास के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया। इस दौरान पुलिस का मानवीय चेहरा सामने आया जब बहनों की बिगड़ी हालत को देख बिठूर के थानाध्यक्ष विनोद कुमार सिंह ने अस्पताल का खर्चा खुद उठाया। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक थानेदार ने अपने एटीएम कार्ड से 25 हजार रूपये निकाल कर अस्पताल प्रशासन को दिये और पीडितों को उनके घर पहुंचाने के लिये वाहन का इंतजाम कराया। मौके पर मौजूद लोग थानाध्यक्ष की तारीफ करते हुए नहीं थक रहे हैं। जब इस बारे में थानाध्यक्ष से बात की गई तो वह ज्यादा कुछ तो नहीं बोल पाए, लेकिन बात करते-करते उनका भी गला भर आया। उन्होंने बताया किस शव का पंचनामा कर पोस्टमार्टम की सारी प्रक्रियाएं पूरी हो चुकी हैं और शवों को परिजनों के हवाले कर दिया गया है, क्योंकि हादसे में पिता की भी मौत हो चुकी है, इसलिए शव को बांदा तक पहुंचाने के लिए पुलिस व अन्य साथियों के सहयोग से वाहन करके भेज दिया गया है और वही दोनों बहनों के उपचार के दौरान हाल ठीक-ठाक है और उन्हें भी जल्द से जल्द घर भेजने की व्यवस्था की जा रही है। गौरतलब है कि बांदा की छोटी बाजार निवासी मिठाई व्यवसायी फूलचंद गुप्ता के तीन पुत्रियां पूजा, आरती, सीमा हैं और पंद्रह वर्षीय पुत्र अनमोल था। पूजा कानपुर शारदा नगर में रहती है। भाई अनमोल उसके साथ रहकर डीएवी इंटर कॉलेज में पढ़ाई कर रहा था, वहीं आरती मंधना में किराये पर रहकर निजी कॉलेज से बीफार्मा का कोर्स कर रही है। आर्थिक रूप से कमजोर फूलचंद किसी तरह बच्चों को पढ़ा लिखा रहे थे।

Share it
Top