पुष्पेन्द्र पर पुलिस की कार्यवाही जायज: योगी...अखिलेश के आरोपों को सीएम ने किया खारिज

पुष्पेन्द्र पर पुलिस की कार्यवाही जायज: योगी...अखिलेश के आरोपों को सीएम ने किया खारिज

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के झांसी में पुष्पेन्द्र यादव को फर्जी मुठभेड़ में मारे जाने के समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव के आरोप को सिरे से नकारते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पुलिस कार्रवाई को जायज करार दिया है। श्री योगी ने सोमवार को एक निजी चैनल को दिये गये साक्षात्कार में कहा कि कथित अपराधी पुष्पेन्द्र यादव ने पहले पुलिस अधिकारी पर गोली चलाई, जिसमें वह घायल हो गये। गोली मारने के बाद भाग रहे पुष्पेन्द्र का पुलिस पार्टी ने पीछा किया और 4० किमी बाद उसे घेर लिया गया। खुद को घिरा देख पुष्पेन्द्र ने पुलिस पर फिर फायरिंग की और जवाबी कार्रवाई में वह मारा गया। उन्होंने कहा कि इस मुठभेड़ में एक पुलिस अधिकारी घायल हुआ। किसी को भी कानून हाथ में लेने का अधिकार नहीं है। चाहे वह पुलिस वाला हो या फिर कोई राजनेता। प्रदेश का हर नागरिक कानून से बंधा हुआ है। सपा अध्यक्ष के बयान पर श्री योगी ने कहा कि लोगों को जानबूझ कर नहीं मारा जा रहा है। मेरा मानना है कि समाज के लिये खतरा बन चुके अपराधी तत्व से श्री यादव कुछ खास सहानुभूति रखते है। आज जब इन तत्वों पर पुलिस कार्रवाई तेज हो चुकी है तो ऐसे में सपा अध्यक्ष को बुरा लगना स्वाभाविक है। गौरतलब है कि सपा अध्यक्ष ने झांसी जाकर पुष्पेन्द्र यादव के परिजनों से मुलाकात की थी और कहा था कि सपा के 2०22 में सत्ता में लौटने पर मामले की फिर से जांच करायी जायेगी और पुष्पेन्द्र की मौत के जिम्मेदार लोगों पर कार्रवाई की जायेगी। उन्होंने कहा था 'यह मुठभेड़ नहीं है, बल्कि पुष्पेन्द्र की हत्या की गयी है। उसकी तीन महीने पहले शादी हुई थी और अब उसकी पत्नी का भविष्य अंधकारमय है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रामपुर में सपा सांसद आजम खां को आपराधिक मुकदमों में फंसाये जाने की साजिश से भी इंकार करते हुये कहा कि सभी को वास्तविकता का पता है और कानून अपना काम कर रहा है।

Share it
Top