एसटीएफ ने किया रामगोपाल त्रिपाठी की हत्या का खुलासा,दो आरोपी गिरफ्तार

एसटीएफ ने किया रामगोपाल त्रिपाठी की हत्या का खुलासा,दो आरोपी गिरफ्तार

लखनऊ उत्तर प्रदेश के संतकबीरनगर निवासी अधिवक्ता रामगोपाल त्रिपाठी की अपहरण के बाद हत्याकर शव को लखनऊ की इन्दिरानहर में फेंकने की घटना का खुलासा करते हुए पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने सोमवार को दो हत्यारोपियों को गोमतीनगर क्षेत्र से गिरफ्तार कर लिया।

एसटीएफ के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक राजीव नारायण मिश्र ने यहां यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि सात सितम्बर की रात करीब आठ बजे सन्तकबीरनगर के कोतवाली खलीलाबाद क्षेत्र के बडीसरौली निवासी अधिवक्ता रामगोपाल त्रिपाठी नई जेल लखनऊ के इन्दिरानहर के पास थे। उसके बाद उनके तीनों मोबाईल फोन बंद हो गये थे। इस सिलसिले में पता चला कि सन्तकबीरनगर निवासी सुरेश कन्नौजिया ने श्री त्रिपाठी का अपहरण करने के बाद अपने साथियों के साथ मिलकर उनकी हत्या कर दी। इस मामले में सुरेश कन्नौजिया के खिलाफ संतकबीरनगर के मेहदावल थाने पर मामला पंजीकृत कराया गया था। इस घटना का खुलासा करने के लिए संतकबीरनगर के पुलिस अधीक्षक ने एसटीएफ से अनुरोध किया गया था।

उन्होंने बताया कि विवेचना के दौरान जानकारी मिली कि सुरेश कन्नौजिया का भाई सुभाष कन्नौजिया लखनऊ में निवास करता है, जिसने उक्त मुकदमें में समझौता कराने के लिए श्री त्रिपाठी को छह सितम्बर को लखनऊ बुलाया था। सुभाष कन्नौजिया के लखनऊ स्थित ठिकानों, उसकी गतिविधियों एवं फोन नम्बरों के सम्बन्ध में जानकारी किये जाने पर पता चला कि सात सितम्बर की शाम जीवन प्लाजा गोमतीनगर और नई जेल रोड लखनऊ पर श्री त्रिपाठी को सुभाष कन्नौजिया को उसके दो अन्य साथियों के साथ देखा गया था। सुभाष कन्नौजिया ने अपने साथियों के साथ मिलकर श्री त्रिपाठी की हत्या कर शव इन्दिरानहर में फेंक दिया था।

श्री मिश्र ने बताया कि आज सूचना मिली कि श्री त्रिपाठी की हत्या कर शव और कार को छुपाने वाला मुख्य आरोपी सुभाष कन्नौजिया ने अपने एक साथी जो हत्या में शामिला था उससे मिलने के लिए उसी स्कोडाकार से शहीदपथ पर गोमतीनगर स्थित परम्परा रेस्टोरेन्ट के पास मिलने आने वाला है। इस सूचना पर एसटीएफ के निरीक्षक पंकज मिश्र और सन्तकबीरनगर के उपनिरीक्षक धर्मेन्द्र सिंह की संयुक्त टीम ने मुखबिर द्वारा बताये गये स्थान पर घेराबन्दी की। कुछ समय बाद बताई गई कार से एक व्यक्ति आकर रूका और शहीद पथ हाई कोर्ट मोड़ पर खड़े व्यक्ति को कार में बैठाकर बात चीत करने लगा । मुखबिर की पुष्टि के बाद पुलिस ने सुभाष कन्नौजिया और उसके साथी सोमनाथ सोलंकी को गिरफ्तार कर लिया।

उन्होंने बताया कि गिरफ्तार आरोपियों की निशानदेही पर हत्या और अपहरण में प्रयुक्त कार, एक बाइक के अलावा गलादबाकर हत्या के लिए इस्तेमाल गमछा, चार मोबाइल फोन, एटीएम और श्री त्रिपाठी की कार बरामद की।

Share it
Top